electricity
Representative Pic

    कोरची: गुरवार को शाम 5 बजे के दौरान अचानक हुए तुफानी हवा व बारिश होने से कोरची तहसील की बिजली आपूर्ति खंडित हुई. जिससे संपूर्ण कोरची तहसील अंधेरे में चली गई थी. कोरची के बिजली वितरण वितरण कंपनी के सहायक अभियंता प्रफुल कुरसंगे यह अपने कर्मचारियों के साथ जंगल में पहुंचकर अंधेरे में कोरची से चिचगड़ जंगल मार्ग पर के 33 केवी बिजली वाहिनी पर कार्य कर 6 घंटे में बिजली आपूर्ति सुचारू की. 

    संपूर्ण तहसील में बिजली आपूर्ति खंड़ित होते ही बिजली कंपनी के अधिकारियों के साथ कर्मचारियों ने मसेली-पिपरखारी जंगल से बिजली तारों का निरीक्षण करते हुए साथ ही बिजली तारों के समिप के पेड़ के टहनियों की छटनी की. अंतत: मोहाडी गांव के समिप रात करीब 11 बजे के दौरान 33 केवी बिजली इन्सुलेटर फुटा नजर आया.

    बिजली कर्मचारियों ने उक्त इन्सुलेटर बदलकर नया लगाने का कार्य शुरू किया. इस दौरान इसकी जानकारी पार्षद गुड्डू अग्रवाल, व्यापारी नितीन रहेजा, नंदू पंजवानी, सामाजिक कार्यकर्ते राहुल अंबादे को मिलते ही वे भी जंगल के रास्ते मोहाडी में पहुंचे. चिचगड़ को जाकर बिजली वितरण कंपनी के ऑपरेटर को ट्रायल देने को कहां. इसमें करीब 6 घंटे का कालावधि लगा. अंतत: कोरची तहसील की बिजली आपूर्ति सुचारू हुई. 

    बिजली कर्मियों की प्रशंसा 

    फिलहाल गड़चिरोली जिले में जंगली श्वापदों के मनुष्य पर हमले हो रहे है. इसमें अनेक लोगों की जान गई है. ऐसे में कोरची के बिजली वितरण कंपनी के अधिकारी सहाय्यक अभियंता प्रफुल कुरसंगे, वरिष्ठ तंत्रज्ञ नंदकिशोर अलोनो, बलराम घाटघुमर, प्रधान तंत्रज्ञ तोहीर शेख इनके साथ अन्य कर्मचारियों ने अपनी जान खतरे में डालकर देररात तक जंगल में घुमकर बिजली की मरम्मत की बिजली आपूर्ति सुचारू की. जिससे बिजली विभाग के दस्ते की कोरची के नागरिकों द्वारा प्रशंसा की जा रही है. 

    सहाय्यक अभियंता कुरसंगे को प्रमाणपत्र 

    कोरची के सहायक अभियंता प्रफुल कुरसंगे को गड़चिरोली प्रविभाग की बकाया राशी व बिजली रिझाव का प्रमाण कम करने के लिए किए गए प्रभावी कार्य के चलते महावितरण के अधिक्षक अभियंता रविंद्र गाडगे के हस्ताक्षर का प्रमाणपत्र देकर सन्मानित किया गया. कडे परिश्रम लेकर कंपनी के प्रगती के लिए प्रयास करने की बात उन्होने कहीं.