Gas cylinder

  • पेट्रोल की तर्ज पर  सिलेंडर का भी दरवृद्धी का निर्णय 

चामोर्शी: अब नए वर्ष में प्रति सप्ताह को गैस सिलेंडर के किंमतों में बदलाव होने से पहले ही कोरोना से त्रस्त आमनजों को दरवृद्धी का सामना करना पडेगा. केंद्र सरकार ने अच्छे दिन का ख्वाब आमजनों को दिखाकर सत्ता प्राप्त की. मात्र आम लोगों को अच्छे दिन आने के बजाएं पेट्रोल के साथ ही गैस सिलेंडर के दामों में भी प्रति माह में 2 बार व्यापक वृद्धी करने से कोरोना के झटके सहते हुए त्रस्त हुए आमजनों के जेबों को कैची लगनेवाली है. ऐसे विकट परिस्थितियों का सामना करने की नौबत आमजनां पर आयी है. घरेलू सिलेंडर के किंमतों में 1 दिसंबर 50 रुपये तो 15 दिसंबर को 50 रुपये ऐसे 1 माह में ही 100 रूपयों की वृद्धी हई है.

मात्र ग्राहकों के खाते में सबसिडी के तौर पर केवल 40 रूपये जमा हुए. जिससे ग्राहकों में संभ्रम निर्माण हुआ है. दिसंबर माह में 100 रूपयों की वृद्धी होने के बावजूद नवंबर में उतनी ही सबसिडी जमा हुई है. वहीं तेल कंपिनयों भी प्रत्येक सप्ताह में गैस सिलेंडर के किंमतों का परिक्षण कर दाम कम-ज्यादा करनेवाले है. इससे पूर्व सिलेंडर के किंमतों में माह में केवल एक बार ही दर निश्चित किए जाते थे. मात्र अब पेट्रोल के किंमत के तहत ही गैस सिलेंडर के दरवृद्धी का निर्णय प्रति सप्ताह में होनेवाला है. 

महांगाई के चपेट में आमजन 

तेल कंपनियों को होनेवाले नुकसान के लिए यह निर्णय लिए जाने की चर्चा है. वहीं केंद्र सरकार ने इससे पूर्व गरीबों को उज्ज्वला गैस का निशुल्क वितरण किया था. उन्हे भी अब दरवृद्धी का शॉक लग रहा है. जिससे गरीब गैसधारक भी कोरोना कालावधि में व्यापक दयनिय स्थिती में जीवनयापन कर रहे है. उन्हे भी दरवृद्धी का सामना करना पडेगा.

मात्र इस नए नियमावली के लिए अधिकृत सूचना अबतक नहीं मिली है. फिर भी गैस एजंन्सी संचालक नई नियमावली के लिए आग्रही होने की बात कहीं जा रही है. इसके लिए आगामी कुछ दिनों में इस संदर्भ में निर्णय हुआ तो तो 1 जनवरी से सिलेंडर के किंमते प्रत्येक सप्ताह में बदलनेवाले है. जिससे आमजन महंगाई के चपेट में आने की बात कहीं जा रही है.