Picture Credit: Twitter
Picture Credit: Twitter

    गड़चिरोली. भारतीय मौसम विभाग (IMD) ने विदर्भ के लिए 26 से 27 सितंबर के दौरान मुसलाधार बारिश की संभावना दर्शायी है. गड़चिरोली जिले में भी 26 तथा 27 सितंबर के कालावधि में कुछ जहग बिजली के कड़कड़ाहट के साथ मुसलाधार बारिश होने की चेतावनी दी गई है. इस दौराना नागरिकों के साथ ही खासकर किसान विशेष सतर्कता बरते ऐसा आह्वान जिलाधिकारी तथा जिला आपदा प्रबंधन प्राधिकारण के अध्यक्ष ने किया है. 

    नागरिक सतर्कता बरते 

    भारतीय मौसम विभाग, जिला प्रशासन तथा विभिन्न माध्यमों से प्राप्त होनेवाले मौसम विभाग का अनुमान व बांध की स्थिती पानी का विसर्ग आदि पर ध्यान रखकर सतर्कता बरते, किसी भी स्थिती में बाढ़ के पानी में प्रवेश न करे, नदीतट अथवा खतरे के जगह निवासरत होने पर तत्काल सुरक्षित जगह पर स्थानांतरीत हो, मुसलाधार बारिश में आवश्यकता न होने पर घर के बाहर न निकले, पुराने तुटेफुटे घर अथवा इमारत में आश्रय न ले, नदी के पुलियां के उपर से पानी बहने पर पुलियां पार न करे, अफवाओं पर विश्वास न रखे या अफवाएं न फैलाएं ऐसा आह्वान किया है.

    जिले में औसतन 2.1 मीमी बारिश दर्ज 

    जिले में बिते 24 घंटे में 2.1 मीमी बारिश दर्ज की गई है. जिसमें सर्वाधिक 5.5 मीमी बारिश देसाईगंज हुई है. वहीं कोरची तहसील में 4.5 मीमी, भामरागड़ 3.1 मीमी, अहेरी 2.8 मीमी, आरमोरी 2.1 मीमी, धानोरा व मुलचेरा 2 मीमी, कुरखेडा 1.8 मीमी, एटापल्ली 0.7 मीमी, चामोर्शी तहसील में 0.4 मीमी बारिश दर्ज की गई है. 

    बांधों से विसर्ग जारी

    गोसीखुर्द बांध के 33 में 7 गेट 0.50 मीटर से खोले गए है. यहां से 988 क्युमेक्स पानी का विसर्ग शुरू है. वैनगंगा नदी तट के गांवों के नागरिकों के उचित सतर्कता बरते ऐसा आह्वान किया गया है. चिचडोह बैरेज के सभी 38 गेट खोले गए है. यहां से 2533 क्युमेक्स पानी का विसर्ग शुरू है. लक्ष्मी बॅरेज (मेडीगड्डा) के  85 में से 57 गेट खोले गए है. यहां से 12119 क्युमेक्स (4,28,000 क्युसेक्स) पानी का विसर्ग हो रहा है. अन्य सभी नदीयों का जलस्तर सामान्य है.