paddy centers
File Photo

    • तहसील के किसान धान बिक्री की प्रतिक्षा में 

    कुरखेडा. प्रतिवर्ष समर्थनमुल्य धान खरीदी केंद्र पर किसानों होनेवाली परेशानी का आलम इस वर्ष भी कायम दिखाई दे रहा है. आदिवासी विभिन्न सहकारी संस्था अंतर्गत तहसील कें केंद्रो को मंजूरी प्रदान की गई. जिसके तहत धान खरीदी केंद्र का उद्घाटन भी किया गया. किंतु आदिवासी विकास महामंड़ल  द्वारा खरीदी केंद्रो को बारदाने की आपूर्ति नहीं करने से इन केंद्र पर धान खरीदी अबतक शुरू नहीं हुई है. फलस्वरूप धान खरीदी केंद्रो को शुरूआत हुए 10 दिनों का कालावधि बितने के बावजूद केवल महामंड़ल के नियोजन के अभाव में तहसील के किसानों के समक्ष धान बिक्री की समस्या निर्माण हुई है. 

    सरकार द्वारा निश्चित तारीख के अनुसार खरीदी केंद्र शुरू करने की निति है. किंतु सरकार के इस निति की गड़चिरोली जिले में प्रतिवर्ष धज्जीयां उडती आयी है. खरीफ सीजन 2022-23 के लिए 1 नवंबर को धान खरीदी शुरू करने संदर्भ में जिलाधिकारी ने सक्त निर्देश दिए है. जिसके तहत तहसील के समर्थनमुल्य केंद्र शुरू करने के लिए केंद्र चालकों ने विभिन्न खामियों की पूर्ति कर पणन विभाग की ओर प्रस्ताव भेजे. जिसके तहत प्रादेशिक कार्यालय गड़चिरोली अंतर्गत आनेवाले कुरखेडा उपप्रादेशिक कार्यालय कार्यालय के तहत कुरखेडा व कोरची तथा आरमोरी उपप्रादेशिक कार्यालय अंतर्गत ऐसे कुल 17 समर्थनमुल्य केंद्रो को इस वर्ष मंजूरी प्रदान की गई.

    जिसके तहत तहसील के आदिवासी विविध सहकारी संस्था अंतर्गत आनेवाले इन केंद्रो का 1 नवंबर को उद्घाटन भी किया गया. किंतु 8 से 10 दिनों का कालावधि बितने के बावजूद इन केंद्रो पर धान खरीदी को शुरूआत नहीं होने से तहसील के किसान संकट में आए है. इस संदर्भ में अधिक जानकारी प्राप्त करने पर महाराष्ट्र राज्य सहकारी आदिवासी विकास महामंड़ल द्वारा संबंधित केंद्रो को बारदाने की आपूर्ति नहीं किए जाने की बात सामने आयी है. तहसील के अनेक किसानों ने धान की उपज लिए 15 से 20 दिनों का कालावधि बित गया है. किंतु महामंड़ल के नियोजन के अभाव में उक्त किसानों को अकारण मानसिक परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. 

    निजि व्यापारियों की ओर बढ़ सकते किसानों के कदम 

    तहसील के अनेक किसानों के पास धान उपज हाथ आयी है. किंतु अबतक खरीदी केंद्र पर धान खरीदी को शुरूआत नहीं होने के कारण इन किसानों के समक्ष अनेक समस्यांए निर्माण हुई है. धान रखने के लिए आवश्यक जगह नहीं होने से उक्त किसान निजि व्यापारियों की ओर कम दाम में धान की बिक्री करने की संभावना है. जिस कारण किसानों का वयापक नुकसान होने का भय व्यक्त हो रहा है. जिससे किसानों के स्थिती की गंभिरता को समझते हुए महामंड़ल ततकाल केंद्र पर बारदाना उपलब्ध कराकर प्रत्यक्ष धान खरीदी को शुरूआत करने की मांग किसानों द्वारा की जा रही है. 

    तहसील में मंजूर खरीदी केंद्र 

    आदिवासी विकास महामंड़ल द्वारा सीजन 2022-23 के लिए कुरखेडा तहसील के कुरखेडा, कोरची, आरमोरी उप प्रादेशिक कार्यालय अंतर्गत आनेवाले कुल 17 धान खरीदी केंद्रो को मंजूरी प्रदान की है. इसमें कुरखेडा उपप्रादेशिक कार्यालय अंतर्गत कुरखेडा, कढोली, नान्ही, गोठणगाव, गेवर्धा, आंधली, देऊलगाव, सोनसरी, खरकाडा, पलसगड इन केंद्रो का समावेश है. वहीं कोरची कार्यालय अंतर्गत खेडेगाव, रामगड, येंगलखेडा, मालेवाडा, पुराडा तथा आरमोरी कार्यालय अंतर्गत उराडी, अंगारा इन खरीदी केंद्र का समावेश है. इस खरीदी केंद्र अंतर्गत कुल 133 गांवों के किसान धान बिक्री कर पाऐंगे. 

    जिलाधीश के आदेश की अवहेलना 

    सरकार ने धान खरीदी का कालावधी 31 जनवरी 2023 तक निश्चित किया है. जिसके तहत जिलाधिकारी ने 1 नवंबर से धान खरीदी केंद्र शुरू कर बिना विलंब धान खरीदी की प्रक्रिया शुरू करने के सक्त निर्देश दिए है. ऐसा न होने पर संबंधित केंद्र नामंजूर किए जाऐंगे, ऐसी बात जिलाधिकारी ने आदेश में कहीं है. तहसील में 1 नवंबर को केंद्र का उद्घाटन भी किया गया. किंतु उक्त केंद्र को वरीष्ठ स्तर पर से बारदाने की आपूर्ति नहीं होने से यहां की खरीदी-बिक्री प्रक्रिया 10 दिनों से प्रलंबित है. जिस कारण जिलाधिकारी के उक्त आदेश की अवहेलना होती दिखाई दे रही है.