प्रतीकात्मक तस्वीर
प्रतीकात्मक तस्वीर

    • अस्पतालों में बाल मरीजों की भीड़

    पेरमिली. वर्तमान स्थिति में भले की कोरोना का संक्रमण काफी हद तक कम हुआ हो, लेकिन जिले की अहेरी तहसील के दुर्गम क्षेत्र के रूप में परिचित पेरमिली परिसर के 31 गांवों में बुखार समेत अन्य बिमारियों का संक्रमण बढ़ गया है. विशेषत: ग्रामीण क्षेत्र में छोटे बच्चे बिमारी के चपेट में आ रहे है.

    जिसका खामियाजा सरकारी अस्पतालों समेत निजि अस्पतालों में बाल मरीजों की भीड़ दिखाई दे रही है. पेरमिली स्वास्थ्य केंद्र अंतर्गत चार उपकेंद्रों का समावेश है. इन चार उपकेंद्रों के 31 गांवों के प्रत्येक घरों में बिमारी का संक्रमण हो रहा है. उक्त बिमारी छोटे बच्चों को अपने चपेट में ले रही है. जिसमें बच्चों को बुखार, उल्टी, खांसी, सर्दी आदि लक्षण दिखाई दे रहे है. हाल ही में हुई अकाली बारिश के चलते ग्रामीण क्षेत्र में अस्वच्छता और गदंगी फैलकर उक्त बिमारी का संक्रमण बढऩे की बात ग्रामीणों में कही जा रही है. 

    रिक्त पदों के चलते कर्मियों पर अतिरिक्त भार

    पेरमिली स्वास्थ्य केंद्र अंतर्गत आनेवाले चारों उपकेंद्रों में स्वास्थ्य कर्मचारियों के अनेक पद रिक्त पड़े है. जिसमें पेरमिली स्वास्थ्य केंद्र में एक लिपिक समेत एक सुपरवाईझर का पद रिक्त पड़ा है. तलवाड़ा व मेडपल्ली उपकेंद्र में प्रत्येकी एक स्वास्थ्य सेविका का पद रिक्त पड़ा है. कुसमपल्ली उपकेंद्र में एक वैद्यकीय अधिकारी और एक स्वास्थ्य सेविका का पद रिक्त है. वहीं कोडसेलपल्ली उपकेंद्र में स्वास्थ्य सेविकाओं के 2 ऐसे कुल 8 पद रिक्त पड़े है. इन रिक्त पदों के चलते कार्यरत कर्मचारियों को अतिरिक्त काम का बोझ उठाना पड़ रहा है. 

    चार उपकेंद्रों में इन गांवों का समावेश 

    पेरमिली प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र अंतर्गत आनेवाले चार उपकेंद्रों द्वारा 31 गांवों की जिम्मेदारी संभाली जा रही है. जिनमें पेरमिली स्वास्थ्य केंद्र अंतर्गत पेरमिली, आरेंदा, आलदंडी, चंद्रा, चंद्राटोला, गुर्जा (खुर्द), चौडमपल्ली, कोरेली, कचलेर, कोरेली (बु), विनभट्टी, ताडगुड़ा आदि गांवों का समावेश है. तलवाड़ा उपकेंद्र अंतर्गत तलवाड़ा, मिरकल, सकीणगट्टा, कासमपल्ली, कुरूमपल्ली स्वास्थ्य उपकेंद्र अंतर्गत कुरूमपल्ली, पल्ले, रापेली, एकर, कोडेकसा, मेडपल्ली उपकेंद्र अंतर्गत मेडपल्ली, गुर्जी (बु.), वेडमपल्ली, तुमिरकसा, कोडसपल्ली उपकेंद्र अंतर्गत कोडसपल्ली, येरमनार, कंपेवंचा, येरमनार टोला, कक्काराम और मिचगुंडा आदि गांवों का समावेश है. 

    डा. तुरकर निभा रहे महत्वपूर्ण भुमिका

    स्वास्थ्य केंद्र में अनेक बाद रिक्त होने के बावजूद भी पेरमिली प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के वैद्यकीय अधिकारी डा. इंशात तुरकर इन दिनों महत्वपूर्ण भुमिका निभा रहे है. उन्होंने कोरोना कालावधि में कोरोना योध्दा बनकर मरीजों की सेवा की. और इस क्षेत्र में छोटे बच्चों को बिमारी का संक्रमण होने के कारण वह गांव-गांव पहुंचकर मरीजों पर उपचार कर रहे है. विशेषत: इस क्षेत्र में सड़क का अभाव होने के कारण नदी, नाले पार कर वह मरीजों को सेवा दे रहे है.