भर्ती प्रक्रिया में हुई अनियमितता की जांच करें, बेरोजगार विद्यार्थी संगठन ने भिजवाया मुख्यमंत्री को ज्ञापन

    आरमोरी. स्वास्थ्य विभाग द्वारा निश्चित की गई तारिख नुसार छात्र परिक्षा केंद्र पर पहुंचे. लेकिन 12 घंटे पहले स्वास्थ्य विभाग के विभिन्न पदों के लिये ली जानेवाली भर्ती रद्द की गई. जिसके कारण उम्मीदवारों को वित्तीय, मानसिक और शारिरीक रूप से त्रस्त होना पड़ा. स्वास्थ्य विभाग के इस भर्ती प्रक्रिया में हुई अनियमितता की जांच करें, ऐसी मांग बेरोजगार विद्यार्थी संगठन शाखा आरमोरी ने तहसीलदार के माध्यम से मुख्यमंत्री को भिजवाये ज्ञापन में की है.

    ज्ञापन में कहां गया कि, राज्य सरकार के स्वास्थ्य विभाग द्वारा विभिन्न पदों के लिये आवेदन मांगे गये. स्वास्थ्य विभाग ने परिक्षा की तारीख भी घोषित की. जिसके नुसार उम्मीदवार परिक्षा केंद्र पर पहुंचे. मात्र परिक्षा के 12 घंटे पहले अचानक परिक्षा रद्द की गई. जिसके कारण उम्मीदवारों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ा. परिक्षा देनेवाले अनेक उम्मीदवार गरीब परिवार से होकर यह वित्तीय नुकसान सह पाना असंभव हो गया है.

    जिससे परिक्षा देने गये उम्मीदवारों का हुआ नुकसान मुआवजे के रूप में देने, पदभर्ती में हुए भ्रष्टाचार की स्वतंत्र यंत्रणा के माध्यम से जांच करने, प्रत्येक जिलास्तर पर परिक्षा केंद्र तैयार करने, ऐसी मांग संगठन के पदाधिकारियों ने की है. इस समय  नवनिर्माण सेना के रंजित बनकर, प्रहार जनशक्ति पार्टी के निखिल धार्मिक, युवारंग क्लब के राहुल जुआरे, बेरोजगार विद्यार्थी संगठन के शुभम प्रधान, माक्र्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के ए. एन. मानके आदि ने मुख्यमंत्री को भिजवाये ज्ञापन में की है.