किसानों की AVM कार्यालय पर दस्तक, 3 माह बितने के बावजूद नहीं मिली उपज बिक्री की राशी

    कुरखेड़ा. तहसील के मक्का उत्पादक किसानों ने इस वर्ष मक्के की बड़ी बड़ी मात्रा में समर्थनमुल्य किंमत पपर बिक्री की. किंतू 3 माह का कालावधि बितने के बावजूद किसानों को उपज बिक्री की राशी नहीं मिली. जिससे संतप्त किसानों ने आज 13 सितंबर को भाजयुमो के जिलाध्यक्ष तथा आविकां सहकारी संस्था के उपाध्यक्ष चांगदेव फाये के नेतृत्व में आदिवासी विकास महामंड़ल के कुरखेड़ा उपप्रादेशिक कार्यालय पर दस्तक देकर आविम के उपप्रादेशिक प्रबंधक बावणे से चर्चा कर मांगों का ज्ञापन पेश किया. 

    आदिवासी विकास महामंड़ल के मार्फत कुरखेड़ा आविका संस्था की ओर से कुरखेड़ा में खरीदी केंद्र पर करीबन 6 हजार क्विंटल मक्का खरीदी किया गया. किंतू 3 माह का कालावधि बितने के बावजूद भी मक्का उत्पादक किसानों को उनके उपज बिक्री की राशी नहीं दी गई. जिससे किसानों पर वित्तीय संकटों का पहाड़ टुटा है.

    जिससे संतत्प किसानों ने आज आदिवासी विकास महामंड़ल के कुरखेड़ज्ञ उपप्रादेशिक कार्यालय पर दस्तक देते हुए उपज बिक्री की राशी देने की मांग की. इस समय कुरखेड़ा आविका संस्था के अध्यक्ष बाबुराव तुलावी, प्रगतशिल किसान माधव तलमले, रामकुष्ण मुंगणकर, गोवर्धन नेवारे, हिराजी कुथे, हेमंत दोनाडकर, प्रभाकर माकडे, आतिश माकडे, बंटी देवढगले, हरीओम मुंगणकर, कुरखेड़ा आविका के प्रबंधक घोसेकर समेत मक्का उत्पादक किसान बड़ी संख्या में उपस्थित थे. 

    बारदाना की राशी भी बकाया 

    बिते 2 वर्षो से धान उत्पादक किसान धान बिक्री करते समय अपना बारदाना महामंड़ल को दे रहे है. किंतू 2 वर्षो से बारदाने की राशी भी किसानों को नहीं दी गई. इस संदर्भ में अनेक बार पुछाताच की गई. किंतू कोई भी उपाययोजना नहीं की गइ्र. जिससे आंदोलन के दौरान अधिकारियों को इस संदर्भ में पुछते हुए बारदाने की बकाया राशी जमा करने की मांग किसानों ने की. 

    अन्यथा आंदोलन करेंगे तीव्र 

    इस समय उपप्रादेशिक अधिकारी बावणे ने वरीष्ठ कार्यालय के साथ चर्चा कर आगामी 2 दिनों में बकाया मक्का बिक्री की राशी किसानों को दी जाएगी. ऐसा आश्वासन किसानों को दिया. जिससे उपस्थित किसानों ने समाधान व्यक्त किया. किंतू इस कालावधि में राशी न मिलने पर तीव्र आंदोलन करने की चेतावनी किसानों ने दी है.