ST BUS
File Photo

    गड़चिरोली. रापनि कर्मचारियों को सरकारी सेवा में शामिल करने की मांग को लेकर 28 अक्टूबर से गड़चिरोली विभागीय नियंत्रक कार्यालय अंतर्गत आनेवाले गड़चिरोली, ब्रम्हपुरी और अहेरी डि़पों के रापनि कर्मचारियंो ने हड़ताल शुरू किया है. ऐसे में तीनों डिपों के 14 कर्मचारियों को रापनि ने निलंबन करने संदर्भ में नोटिस भिजवाया है. फिर भी आंदोलनकर्ता कर्मि हड़ताल पर डटे है. बता दे कि, रापनि कर्मचारियों के हड़ताल के चलते अब तक रापनि को 3 करोड़ से अधिक रूपयों का नुकसान हुआ है.

     28 अक्टूबर से रापनि कर्मचारियों ने रापनि को सरकारी सेवा में शामिल करने की प्रमुख मांग को लेकर हड़ताल शुरू किया है. जिसके कारण संपूर्ण जिले में रापनि की सेवा पूरी तरह प्रभावित हो गयी है. इस कालावधि में रापनि द्वारा हड़ताल करनेवाले कर्मचारियें को सेवा में पूर्ववत शामिल होने संदर्भ में नोटिस भिजवाने के साथ ही मौखिक सूचना दी गई.

    लेकिन हड़तालकर्ता कर्मचारी अपनी मांग पर अड़े है. ऐसे में मंगलवार को विभागीय नियंत्रक कार्यालय द्वारा 14 आंदोलनकर्ताओं को निलंबित करने संदर्भ में नोटिस भिजवाया गया. बावजूद इसके आंदोलनकर्ता हड़ताल पर डटे है. पिछले 12 दिनों की कालावधि में रापनि की बसे डिपों में जमा होने के कारण रापनि को करोड़ों रूपयंो का नुकसान उठाना पड़ रहा है. वहीं दुसरी ओर यात्रियों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है.