वेतनबढ़ोत्तरी का मुद्दा नहीं; विलगीकरण चाहिए, रापनि कर्मी जारी रखेंगे हड़ताल

    गड़चिरोली. रापनि कर्मचारियों को सरकार में विलगीकरण करने की प्रमुख मांग को लेकर पिछले 27 दिनों से संपूर्ण राज्य समेत गड़चिरोली जिले में रापनि कर्मचारियों ने हड़ताल शुरू किया है. इस कालावधि में अनेक बार सरकार के द्वारा हड़तालकर्ता कर्मचारियों की बैठक होने के बाद भी उचित निर्णय नहीं लिया गया.

    ऐसे में बुधवार को राज्य सरकार के साथ हुई बैठक में सरकार द्वारा महत्वपूर्ण निर्णय लेने की बात कही जा रही थी. लेकिन  राज्य परिवहन मंत्री परब ने वेतन बढ़ोत्तरी करने की बात कहते हुए हड़ताल समाप्त करने की बात कही. लेकिन हड़ताल कर्ता वेतन बढ़ोत्तरी का मुद्दा ही नहीं होने की बात कहते हुए विलगीकरण चाहिए पर अड़े है. बुधवार को भी कर्मचारियों को उचित न्याय नहीं मिलने से कर्मचारियों ने हड़ताल जारी रखने का निर्णय लिया है. 

    वेतन बढ़ोत्तरी का लॉलीपॉप

    पिछले अनेक वर्षो से रापनि कर्मचारी अल्प वेतन पर काम कर रहे है. बाजवूद इसके रापनि कर्मचारी नियमित सेवाएं देते आ रहे थे. लेकिन अपनी महत्वपूर्ण मांग को लेकर रापनि कर्मचारियों द्वारा हड़ताल करने के बाद संपूर्ण राज्य में रापनि की सेवा प्रभावित हो गयी है. जिससे अब राज्य सरकार बैठक लेकर कर्मचारियों को वेतन बढ़ोत्तरी का लॉलीपॉप दिखा रही है. जिससे यह स्पष्ट होता है कि, राज्य सरकार हड़ताल करनेवाले रापनि कर्मचारियों के प्रति गंभीर नहीं है. ऐसा आरोप भी गड़चिरोली के हड़ताल करनेवाले रापनि कर्मचारियों ने लगाया है.

    मांग पूर्ण होने तक जारी रहेगा हड़ताल 

    बुधवार को राज्य सरकार के साथ हुई बैठक में महत्वपूर्ण निर्णय होने की आशा व्यक्त की जा रही थी. लेकिन राज्य सरकार ने विलगीकरण का मुद्दा छोड़ केवल वेतन बढ़ोत्तरी पर चर्चा की.जिससे राज्य सरकार के प्रति हड़ताल करनेवाले कर्मचारियों में तीव्र आक्रोश निर्माण हो गया है. अब जब तक विलगीकरण की मांग पूर्ण नहीं होगी, तब तक हड़ताल जारी रहेगा. ऐसा निर्णय भी हड़ताल करनेवाले कर्मचारियों ने लिया है. 

    यात्रियों के हाल बेहाल 

    इधर पिछले 27 दिनों से रापनि कर्मचारियों का हड़ताल जारी होने के कारण राज्य समेत गड़चिरोली जिले में रापनि की बससेवा पूरी तरह बंद पड़ी है. ऐसे में रापनि को करोड़ों रूपयों का नुकसान भी हुआ है. जिससे विभाग द्वार हड़ताल करनेवाले कर्मचारियों पर निलंबन की कार्रवाई करना शुरू कर दिया है. वहीं दुसरी ओर कर्मचारियों हड़ताल जारी रखने की बात पर अड़े है. इस सभी मामले से यात्रियों के हाल बेहाल हो रहे है.