पुराड़ा ग्रांप ने किया 2 घंटे चक्काजाम आंदोलन, विभिन्न मांगों की ओर किया प्रशासन का ध्यानाकर्षण

    गड़चिरोली. गांव स्तर पर प्रलंबित विभिन्न प्रलंबित समस्याओं का निराकरण करने के लिये कुरखेड़ा तहसील के अतिसंवेदनशील क्षेत्र में बसे पुराड़ा ग्राम पंचायत द्वारा बुधवार को करीब 2 घंटे तक रास्तारोको आंदोलन कर प्रशासन का ध्यानाकर्षण कराया गया. इस दौरान विभिन्न विभागों ने अधिकारियों ने समस्याओं का निराकरण करने के बाद आंदोलन सप्तात किया गया. 

     कुरखेड़ा तहसील के आदिवासी बहुल, संवेदनशील क्षेत्र के रूप में पहचाने जानेवाले पुराड़ा गांव की विभिन्न समस्याओं को लेकर ग्रापं के सरपंच अशोक उसेंडी समेत ग्रापं पदाधिकारियों के नेतृत्व में बुधवार को रामगड़-कोरची मार्ग पर रास्तारोको आंदोलन किया गया. इस समय सरपंच अशोक उसेंडी, ग्रापं सदस्य रामचंद्र रोकड़े, बाबाराम मड़ावी, संजय चौधरी समेत दिवाकर मारगाये, पीसु खुणे, मनोहर सोनवानी आदि प्रमुखता से उपस्थित थे.

    रास्तारोको आंदोलन के चलते रामगड़-कोरची मार्ग की यातायात करीब 2 घंटे तक प्रभावित हो गयी थी. इसी बीच संबंधित विभाग के अधिकारी आंदोलनस्थल पर पहुंचकर मांगे हल करने का आश्वासन देने के बाद आंदोलन समाप्त किया गया. इस दौरान पुराड़ा पुलिस थाने में सरपंच अशोक उसेंड़ी के खिलाफ मामला दर्ज करने की जानकारी मिली है. 

    इन मांगों का है समावेश 

    ग्रापं पदाधिकारियों द्वारा विभिन्न मांगों को लेकर रास्तारोको आंदोलन किया गया. जिसमें प्रमुखता से वनजमीन का अवैध अतिक्रमण हटाने, चराई के लिये आरक्षित जगह का मालिकाना अधिकार ग्रापं को देने, धान खरीदी केंद्र शुरू करने, किसानों के कृषिपंपों को 24 घंटे बिजली आपुर्ति करने, घरकुल सूची के अपात्र लाभार्थियों को ग्रापं शिफारस नुसार संबंधित विभाग जरूरतमंदों को तत्काल योजनाओं का लाभ देने समेत अन्य मांगों का समावेश है. 

    विभिन्न विभागों के अधिकारियों से चर्चा

    पुराड़ा ग्रापं के पदाधिकारी व ग्रामीणों द्वारा चक्काजाम आंदोलन शुरू करने की जानकारी मिलते ही विभिन्न विभागों के अधिकारी घटनास्थल पर पहुंचे. आंदोलनकर्ताओं से प्रत्यक्ष रूप में चर्चा करने के बाद समस्या हल करने का आश्वासन दिया है. इस समय कोरची, कुरखेड़ा उपप्रादेशिक कार्यालय अंतर्गत आनेवाले क्षेत्र में धान खरीदी केंद्र दो दिनों में शुरू करने का आश्वासन दिया गया. लेनिक तत्काल आदेश न देने पर आंदोलन तीव्र करने की चेतावनी ग्रापं पदाधिकारी और ग्रामीणों ने दी है.