21 दिनों से थमे है एसटी के पहिये, 95 ठेका कर्मियों को रापनि ने भिजवाया नोटिस

    • 24 घंटों के भितर सेवा में दाखिल हो, अन्यथा काम से निकाला जाएगा

    गड़चिरोली. पिछले 21 दिनों से रापनि कर्मचारी रापनि को सरकारी सेवा में शामिल करने की प्रमुख मांग को लेकर हड़ताल कर रहे है. इसी बीच आंदोलनकर्ताओं के खिलाफ रापनि द्वारा निलंबन करने की कार्रवाई की गई. फिर हड़ताल करनेवाले कर्मचारियों ने अपना हड़ताल जारी रखा है.

    ऐसे में अब रापनि में ठेका पध्दती से काम करनेवाले 95 बसचालक और परिचालकों को नोटिस भिजवाकर 24 घंटों के भीतर सेवा में दाखिल होने का आदेश दिया गया है. यदि 24 घंटों के भीतर ठेका कर्मी सेवा में दाखिल नहीं होंगे तो, उन्हें सेवा से निकाला जाएगा. ऐसा स्पष्ट आदेश रापनि द्वारा भिजवाये गए नोटिस में दिया गया है. लेकिन दुसरी ओर हड़ताल करनेवाले रापनि कर्मचारी जब तक मांग पूर्ण नहीं होगी, तब तक हड़ताल जारी रखने की बात पर अड़े है. 

     6 करोड़ 30 लाख का नुकसान 

    रापनि कर्मचारियों के हड़ताल के चलते पिछले 21 दिनों से संपूर्ण जिले में रापनि की सेवा पूरी तरह प्रभावित हो गयी है. विशेषत: दिवाली उत्सव में रापनि को सर्वाधिक आय प्राप्त होती है. लेकिन दिवाली उत्सव के दौरान ही रापनि कर्मचारी हड़ताल शुरू करने के कारण दिवाली में रापनि को घाटा बर्दास्त करना पड़ता है.

    गड़चिरोली विभागय नियंत्रण कार्यालय अंतर्गत आनेवाले गड़चिरोली, ब्रम्हपुरी और अहेरी डिपो से प्रति दिन 10 लाख रूपयों की आय रापनि को होती है. लेकिन पिछले 21 दिनों से रापनि कर्मचारियों का हड़ताल शुरू होने के कारण इन 21 दिनों में रापनि को 6 करोड़ 30 लाख रूपयों का नुकसान होने की जानकारी मिली है. 

    यात्रि निजि वाहनों के भरोसे 

    रापनि कर्मचारियों का हड़ताल सप्तात नहीं होने के कारण जिले के यात्रियों को निजि वाहनों के भरोसे रहना पड़ रहा है. वहीं दुसरी ओर जिले में निजि वाहनधारकों की कमाई जोरों पर शुरू है. अनेक जगह पर निजि वाहन समय पर नहीं पहुंचने के कारण यात्रियों को घंटों तक वाहनों की प्रतिक्षा करनी पड़ रही है. इसके अलावा निजि वाहनों में क्षमता से अधिक यात्रि बिठाने के साथ ही यात्रियों से अधिक किराया भी वसूला जा रहा है. जिससे रापनि कर्मचारियों के हड़ताल का यात्रियों को भी खामियाजा भुगतना पड़ रहा है. 

    ठेका कर्मचारियों को भिजवाया है नोटिस: वाडीभस्मे

    गड़चिरोली विभाग के विभागीय नियंत्रक वाडीभस्मे ने बताया कि, कर्मचारियों के हड़ताल के चलते रापनि का भारी नुकसान हो रहा है. इसके अलावा यात्रियों के हाल बेहाल हो रहे है. ऐसे में अब विभागीय कार्यालय अंतर्गत आनेवाले 95 ठेका कर्मचारियों को 24 घंटों के भीतर सेवा में दाखिल होने की नोटिस भिजवायी गयी है. शुक्रवार को सरकारी छूट्टी होने के कारण कर्मी काम पर नहीं आए. लेकिन शनिवार को काम पर दाखिल न होने पर ठेका कर्मचारियों को काम से निकाला जाएगा. ऐसी जानकारी उन्होंने दी है.