रापनि कर्मियों के हड़ताल का नतिजा, निजि वाहनधारकों ने बढ़ाया किराया

    गड़चिरोली. 28 अक्टूबर से रापनि कर्मचारियों को सेवा में समावेश करने की प्रमुख मांग को लेकर गड़चिरोली जिले के रापनि कर्मचारियों ने हड़ताल शुरू किया है. जिसके कारण संपूर्ण जिले में रापनि की सेवा पुरी तरह प्रभावित हो गयी है. जिसका लाभ उठाते हुए निजि वाहनधारकों ने अपना वाहन का किराया बढ़ा दिया है. जिसका खामियाज यात्रियों को भुगतना पड़ रहा है. ऐसे में निजि वाहनधारकों द्वारा क्षमता से अधिक यात्रियों को वाहन में बिठाए जाने से यात्रियों को जानलेवा सफर करना पड़ रहा है.

    गड़चिरोली जिले में गड़चिरोली और अहेरी में रापनि के बस डिपो है. इन डिपों के माध्यम से जिले के शहरी समेत क्षेत्र समेत ग्रामीण और दुर्गम क्षेत्र में बसेस चलाई जाती है. लेकिन रापनि कर्मचारियों ने अपनी मांग को लेकर 28 अक्टूबर से हड़ताल शुरू किया है. जिसके कारण संपूर्ण जिले में रापनि की सेवा बंद है. ऐसे में यात्रियों को त्रासदि का सामना करना पड़ रहा है.

    रापनि की सेवा बंद होने के कारण मजबूरन यात्रि निजि वाहनों का सहारा ले रहे है. इसका फायदा उठाते हुए निजि वाहनधारकों ने अपने वाहनों का किराया बढ़ा दिया है. जिससे ग्राहकों की वित्तीय लुट होने की बात कही जा रही है. जिससे इस मामले की ओर गंभीरता से ध्यान देने की मांग नागरिकों द्वारा की जा रही है.

    रापनि कर्मियों का हड़ताल जारी

    इधर रापनि कर्मचारी अपनी मांग को लेकर हड़ताल जारी रखे हुए है. सोमवार को हड़ताल का 11 वां दिन होकर रापनि कर्मचारी मांग पूर्ण होने तक हड़ताल जारी रखने का निर्णय लिये है. कर्मचारियों के हड़ताल के चलते गड़चिरोली डिपो को अब तक 1 करोड़ से अधिक रूपयों का नुकसान हुआ है. वहीं सभी बसे डिपों में जमा होकर गड़चिरोली और अहेरी डिपो में यात्रियों के अभाव से सन्नाटा छाया हुआ है.