Villagers wandering for severe water scarcity in Talvel
File Photo

    कुरखेड़ा. कुरखेडा तहसील के प्रतिष्ठा का गाव होनेवाले कढोली में ग्रामीणों को जलापूर्ति योजना अंतर्गत पानी उपलब्ध करा दिया जा रहा है. किंतू पिछले कुछ माह से गाव के अनेक ग्रामीणों को एक बुंद भी पानी उपलब्ध न होने से कड़ी धुप में नागरिकों को पानी किल्लत का सामना करना पड़ रहा है. इस पर स्थानीय ग्रापं प्रशासन द्वारा किसी भी तरह की उपाययोजना नहीं की जाने से नल तो दिए, पानी कौन देगा ? ऐसा सवाल उपस्थित कर रहे है. 

    तकरीबन 5 हजार जनसंख्या होनेवाले कढोली के करीबन 750 नागरिकों को ग्रामपंचायत की ओर से नल योजना अंतर्गत नल कनेक्शन दिए गए. किंतू इसमें 35 से 40 नल कनेक्शन धारकों को पिछले कुछ माह से एक बुंद भी पानी उपलब्ध न होने की जानकारी है. इस संदर्भ में संबंधित पानी किल्लतग्रस्त ग्रामीणों ने कई बार ग्रापं प्रशासन को शिकायत की. किंतू इसकी ओर निरंतर अनदेखी की जा रही है. तहसील की सबसे बड़ी ग्रामपंचायत होनेवाले कढोली में कृत्रिम पानी किल्लत निर्माण होने का मुख्य कारण यानी नल की तोटीया न लगाना यह है.

    तोटियों के अभाव में हजारो लीटर पानी बर्बाद हो रहा है. तथा कुछ लोगों की ओर से नल को टिल्लू पंप लगाकर पानी की चोरी की जा रही है. खुलेआम पानी की चोरी होते समय नप प्रशासन के अनदेखी से नियमित पानी टैक्स भरनेवालों को कड़ी धुप में पानी किल्लत का सामना करना पड़ रहा है. गाव में जलापूर्ति के लिए 2 जलकुंभ निर्मित होकर उसकी क्षमता 1 लाख 75 हजार इतनी है. इस जलकुंभ द्वारा पूर्ण गाव की प्यास मिटाना संभव है. लेकिन ग्रापं प्रशासन के नियोजन शुन्यता से कुछ लोगों को पानी के लिए दर दर भटकना पड़ रहा है. 

    बरसात के पूर्व नालियों की सफाई करे

    गाव के नालियों की विगत अनेक माह से सफाई नहीं की जाने से नालिया लबालब भर चुकी है. गाव में सर्वत्र गंदगी का वातावरण निर्माण हुआ है. इसके बावजूद ग्रापं प्रशासन ने नाली सफाई की ओर अनदेखी की है. बरसात के पूर्व उक्त नाली की सफाई न होने पर गंदा पानी नागरिकों के आंगण समेत घर में भी जाने की संभावना बढ़ चुकी है. जिससे बरसात के पूर्व नालियों की सफाई करे, ऐसे मांग का ज्ञापन जयंत निंबेकार, रोहित आकरे, सेवाकर सहारे, प्रभू रंदये, दिनेश चुधरी, डंबाजी कोसरे आदि ग्रामीणों ने ग्रापं पदाधिकारियों को पेश किया है.