File Photo
File Photo

    • वनविभाग उपाययोजना करने में विफल

    सिरोंचा. विगत कुछ दिनों से तहसील के कुछ क्षेत्र में बाघ का मुक्त संचार दिख रहा है. साथ ही मंगलवार को रात के दौरान तहसील के आसरअल्ली क्षेत्र के गुमलकोंडा गाव परिसर समेत बाम्हणी-झिंगानूर जंगल परिसर में नागरिकों को बाघ दिखाई देने से तहसील में बाघ की दहशत अभी भी कायम होने की तस्वीर दिख रही है. जिससे वनविभाग इन बाघों पर उपाययोजना करने में विफल साबित होने से नागरिकों में वनविभाग के प्रति रोष व्यक्त हो रहा है.

    तहसील के आसरअल्ली से 5 किमी की दूरी पर स्थित गुमलकोंडा गाव परिसर में बुधवार को रात 10 बजे के दौरान नागरिकों को बाघ दिखाई दिया. बाघ गाव में प्रवेश न करे इसलिए ग्रामीण पूरी रात न सोने की जानकारी है. तथा इसी रात 7 बजे के दौरान बाम्हणी-झिंगानूर जंगल परिसर के मार्ग समीप मार्गक्रमण करनेवाले नागरिकों को बाघ दिखाई दिया. इस समय इस बाघ को देखने के लिए आना जाना करनेवाले नागरिकों ने भीड़ की थी.

    इसके पूर्व सोमनूर क्षेत्र में भी बाघ का दर्शन नागरिकों को हुआ था. तथा तहसील के पेंटिपाका जंगल परिसर में एक व्यक्ती पर तेंदुए ने हमला कर मौत के घाट उतारने की घटना घटी थी. जिससे तहसील के कुछ क्षेत्र में बाघ, तेंदुए की दहशत कायम है. मात्र उनका बंदोबस्त करने में वनविभाग विफल साबित होने से नागरिकों में वनविभाग के प्रति रोष व्यक्त हो रहा है. तथा नागरिकों को सतर्क रहने के दृष्टी से वनविभाग ने विशेष जनजागृतीपर मुहीम चलाना आवश्यक बना है.