5 वें दिन भी जारी रही विवि कर्मियों की हड़ताल

    गड़चिरोली. महाराष्ट्र राज्य महाविद्यालयीन व विश्वविद्यालयीन सेवक संयुक्त कृति समिति की ओर से शुरू किए गए आंदोलन में गोंडवाना विश्वविद्यालय के सभी अधिकारी व कर्मचारियों ने भी सहभाग लिया है. आज बुधवार 22 दिसंबर को पांचवे दिन भी कर्मचारियों ने आक्रमक भूमिका लेते हुए हड़ताल जारी रखी. 

    गोंडवाना विश्वविद्यालय में कार्यरत विवि कर्मचारी संगठना तथा गोडवाना विश्वविद्यालय अधिकारी व कर्मचारी संगठना इन दोनो संगठनों के बेमियादी हड़ताल को 18 दिसंबर से शुरूआत हुई है. सरकार द्वारा कोई सकारात्मक निर्णय नहीं लिए जाने से आज पांचवे दिन भी हड़ताल जारी थी.

    इस समय संगठना के सचिव सतीश पडोले ने कर्मचारियों को संबोधित करते हुए कहां कि, जबतक सरकार की ओर से कोई लिखीत आश्वासन नहीं मिलता, तबतक यह हड़ताल जारी रखने की बात कहीं है. विवि के विभिन्न विद्यार्थी संगठनों ने भी कर्मचारियों के हड़ताल को समर्थन दिया है. हड़ताल के चलते विश्वविद्यालय का कामकाज प्रभावित हुआ है.

    कामबंद आंदोलन के पांचवे दिन गोंडवाना विश्वविद्यालय यंग टिचर्स असोसिएशन की ओर से सचिव प्रा. विवेक गोर्लावार, प्रा. नंदाजी सातपुते, प्रा. प्रमोद बोधाने ने तथा महाराष्ट्र राज्य कर्मचारी संगठना के जिला उपाध्यक्ष एल. एच. पठाण, सचिव किशोर सोनटक्के ने आंदोलनस्थल को भेट देकर कर्मचारियों की समस्याएं समझकर मांगो की पूर्ति हेतु राज्य महासंघ की ओर से सरकार की ओर प्रयास करने का आश्वासन दिया. 

    आंदोलनकर्ताओं ने चलाया सामाजिक उपक्रम 

    आंदोलन के दौरान सामाजिक उपक्रम चलाएं जा रहे है. जिसके ततह आज आंदोलन के पांचवे दिन कर्मचारी संगठना की सदस्य सुचिता मोरे के संकल्पना के तहत सभी महिला कर्मचारियों ने अखबार के रद्दी से लिफाफे तैयार किए. उक्त लिफाफे सरकारी अस्पताल में मरीजों को दवा वितरीत करने के कार्य हेतु दिए गए.