बेमौसम बारिश ने फिर से किसानों की उम्मीद पर फेरा पानी

    •  हाथ में आयी फसल छिनने से किसानों की उडी निंद 
    •  गड़चिरोली, धानोरा तहसील को लगा फटका 

    गडचिरोली. विदर्भ के साथ जिले में हो रहे बेमौसम बारिश के कारण किसानों की निंद उड गई है. अनेक किसानों ने कटाई की गई फसल सुखाने के लिए खेतों में रखी है. ऐसे में बेमौसम बारिश किसानों की उम्मीदों पर पानी फेरती नजर आ रही है. आज 22 नवंबर को दोपहर के दौरान फिर से गड़चिरोली समेत धानोरा तहसील में बेमौसम बारिश होने से किसानों का काफी नुकसान हुआ है. हाथ में आयी फसल आंखों के समक्ष छिन जाने से किसान निराश हुआ है. 

    बेमौसम बारिश के कारण जिले में विपरीत स्थिती निर्माण हुई है. बिते कुछ दिनों से बेमौसम बारिश ने किसानों को काफी परेशान किया है. हाथ में आयी फसल बर्बाद होती देख किसान त्रस्त हुआ है. अनेक किसानों ने धान फसल काटकर खेतों में सुखाने के लिए रखी. ऐसे में आज सोमवार को गड़चिरोली समेत धानोरा तहसील के अनेक क्षेत्र में कम, अधिक मात्रा में बेमौसम बारिश हुई.

    करीब आधे घंटे तक हुए इस बारिश से किसानों की निंद उडाई है. कुछ दिन पूर्व हुए बारिश में भिगी फसलों को सुखाने के प्रयास में किसान था. ऐसे में बेमौसम बारिश के पुर्न आगमन से उक्त फसल पूर्णत बर्बाद हुई. अनेक किसानों के खेत में पानी जमा होने से संपूर्ण फसल बारिश में भिगकर अंकुरीत होने के कगार पर है. वहीं भारी प्रजाति की धान फसल निचे गिरने से किसान त्रस्त हुआ है. 

    खेतो में जमा पानी निकालने का प्रयास 

    जिले में इससे पूर्व हुए बेमौसम बारिश से अनेक किसानों के खेत में धान की फसल भिगने से अनेक किसान फसलों को उलट-पलट कर सुखाने के प्रयास कर रहे थे. ऐसे में आज गड़चिरोली, धानोरा तहसील के अनेक क्षेत्र में मुसलाधार बारिश होने खेत के बांधों मं पानी जमा हुआ है. जिससे फसले पानी में बहने लगे है. जिससे निराश हुए किसान खेतो में जमा हुआ पानी निकालने का प्रयास करते नजर आ रहे है. 

    धान समेत कपास का नुकसान 

    जिले में धान के साथ ही कपास का उत्पादन भी बडी मात्रा में लिया जाता है. जिले में धान फसल कटाई व कपास चुनने के कगार पर है. किसानों ने धान कटाई व कपास तुडाई करना शुरू की है, ऐसी में बेमौसम बारिश से धान के साथ कपास को भी व्यापक फटका लगा है. किसानों का व्यापक नुकसान हुआ है. नुकसानग्रस्त फसलों के तत्काल पंचनामे कर मुआवजा देने की मांग हो रही है. 

    रब्बी फसलों को भी फटका 

    बदरिले मौसम व बेमौसम बारिश से रब्बी फसलों को व्यापक फटका लगने की संभावना निर्माण हुई है. खरीफ सीजन हाथ से जाता नजर आ रहा है. जिससे किसान रब्बी फसलों से आंस लगाए हुए थे. किंतू बेमौसम बारिश से तुअर के साथ ही चना, मुंग, उलद, गेहू आदि फसलों को इसका फटका लगने की संभावना है.

    बेमौसम बारिश व बदरिले मौसम का फटका फुलबहार पर आए तुअर फसलों को लगनेवाला है. जिससे फुलों की बहार गिरकर किटों का प्रकोप होने की संभावना है. जिससे किसान के पिछे लगी संकटों की मालिका कायम होने से किसान संकटों में फंसा है.