आलापल्ली में वनहुतात्मा दिवस मनाया

    • स्मारक से हुतात्मा हमेशा रहते है याद: विधायक आत्राम का कथन

    आलापल्ली. सदैव स्मरण में रहने के लिए स्मारक अत्यावश्यक है, स्मारक रहने पर हुतात्मा कायम स्वरूप में याद रहते है, ऐसा कथन विधायक धर्मरावबाबा आत्राम ने किया.

    आलापल्ली के वनसंपदा इमारत के कक्ष में आज 11 सितंबर को वन हुतात्मा स्मारक उद्घाटन समारोह में विशेष अतिथी के तौर पर वे बोल रहे थे. इस समय कार्यक्रम के उद्घाटक के रूप में सांसद अशोक नेते थे. कार्यक्रम की अध्यक्षता अप्पर प्रधान वनसंरक्षक एम. श्रीनिवास राव ने की.

    प्रमुख अतिथी के रूप में वनसंरक्षक डा. किशोर मानकर, जिप अध्यक्ष अजय कंकडालवार, सरपंच शंकर मेश्राम, भाजपा के वरीष्ठ नेते बाबुराव कोहले, आलापल्ली के उपवनसंरक्षक सी. आर. तांबे, सिरोंचा के उपवनसंरक्षक सुमित कुमार, भामरागड़ के आशिष पांडे उपस्थित थे. इस समय सांसद अशोक नेते, अप्पर प्रधान वनसंरक्षक एम. श्रीनिवास राव, वनसंरक्षक डा. किशोर मानकर, जिप अध्यक्ष अजय कंकडालवार, वनकर्मचारी हरिष दहागावकर आदि ने मार्गदर्शन किया.

    इससे पूर्व राष्ट्रीय वन हुतात्मा स्मारक का सांसद अशोक नेते के हाथों उद्घाटन किया गया. मान्यवरों के हाथों वनहुतात्म्याओं को पुष्पचक्र अर्पित कर श्रद्धांजलि दी गई. कार्यक्रम की प्रस्तावना प्रभाकर आनकरी ने रखी. संचालन पूर्वा दोंतूलवार ने किया, आभार वन उपविभागीय अधिकारी नितेश देवगडे ने माना. कार्यक्रम में वनअधिकारी, वनकर्मचारी, वनप्रेमी, वनसेवा में कार्यरत रहते समय जान गंवानेवाले परिवार के सदस्य, प्रतिष्ठीत नागरिक उपस्थित थे.