More than 30,000 farmers deprived of the scheme, money lending scheme is not getting benefit
Representative Pic

    Loading

    कोरची. तहसील मुख्यालय होनेवाले कोरची शहर में राष्ट्रीयकृत बैंक की शाखा कुछ साल पहले ही खोली गई. किंतु जगह के अभाव में उक्त बैंक शाखा कोरची से 2 किमी दूरी पर स्थित गुटेकसा अंतर्गत तहसील कार्यालय में छोटे कमरे में स्थानांतरीत किया गया है. तब से यहां बैंक शुरू है. जिस कारण गाहकों को 2 किमी की दूरी तय कर बैंक का व्यवहार करना पड रहा है. जिससे ग्राहकों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. 

    वित्तीय लेन-देन के लिए तहसील मुख्यालय होनेवाले कोरची शहर में राष्ट्रीयकृत बैंक देने की मांग विगत अनेक वर्षो से हो रही थी. सरकार ने लोगो की मांगो की सूध लेकर अस्थायी व्यवस्था के तौर पर राजस्व विभाग के एक कमरे में बैंक ऑफ इंडिया की शाखा शुरू की. किंतु यह कमरा बैंक के कामकाज हेतु अधुरा हो रहा है. जिससे कोरची से 2 किमी दूरी पर स्थित गुटेकसा अंतर्गत तहसील कार्यालय में छोटे से कमरे में बैंक के अस्थायी जगह दी गई. भौगोलिकदृष्टि से  कोरची तहसील पूर्व-पश्चिम 70 किमी है. वहीं उत्तर-दक्षिण 50 किमी है. कोरची से 50-55 किमी दूरी पर से लोग बैंक में आते है.

    छात्रवृत्ती के लिए विद्यार्थियों का राष्ट्रीयकृत बैंक में खाता होने से पहली कक्षा से ग्रॅज्युएट तक विद्यार्थियों को खाता खोलना पडता है. उसी तरह किसान, व्यापारी, भूमीहीन, खेतमजदूर लोगों को भी किसी न किसी योजना का लाभ लेने के लिए खाता शुरू करना पडता है. पहले ही छोटे से कमरे में शुरू होनेवाले बैंक में नितदिन ग्राहकों की व्यापक भीड हो रही है. जिससे वृद्ध लोगो के साथ छोटे बच्चों को परेशानियों का सामना करना पड रहा है. 

    आवागमन के नहीं साधन 

    कोरची शहर से बैंक 2 किमी दूरी पर होने से यहां ऑटो अथवा  दुसरे किसी तरह के साधन नहीं है. जिससे ग्राहकों को पैदल ही बैंक पहुंचना पडता है. इसी मार्ग से छत्तीसगढ राज्य में आवागमन करनेवाले भारी वाहनों की यातायात रहती है. जिससे दूर्घटना का प्रमाण बढ गया हे. उक्त बैंक कोरची शहर में होती तो जिस उद्देश से बैंक शुरू की गईद्व वह उद्देश पूर्ण हुआ होता. 

    अन्यथा करेंगे आंदोलन 

    कोरची तहसील के नागरिकों की समस्या ध्यान में लेते हुए बैंक ऑफ इंडिया की शाखा तहसील कार्यालय से हटाकर कोरची शहर में लाए, इसके लिए जिलाधिकारी आगे आए. आगामी वित्तीय वर्ष से उक्त गेंक के व्यवहार शुरू न करने पर तिव्र आंदोलन करने की चेतावनी वंचित बहुजन आघाडी के तहसील अध्यक्ष सुदाराम सहारे ने दी है.