गोंदिया डिपो के 22 कर्मचारी निलंबित, 19 बर्खास्त

    गोंदिया. राज्य सरकार द्वारा रापनि के कर्मचारियों की हड़ताल को समाप्त करने के लिए उनके वेतन में 41 प्रश. वृद्धि किए जाने के बावजूद कर्मचारी हड़ताल पर डटे हुए है. शासन एक ओर जहां कर्मचारियों को काम पर वापस लौटने के लिए कह रहा है, तो वहीं दूसरी ओर कर्मचारियों पर लगातार निलंबन व सेवा मुक्त किए जाने की कार्रवाई की जा रही है.

    इसी तरह गोंदिया एसटी डिपो में अब तक 22 वाहन चालकों तथा कंडक्टरों को निलंबित किया गया है. जबकि 19 कर्मचारियों को सेवा से बर्खास्त कर सेवामुक्त किया गया है. इस कार्रवाई के बाद 4 दिसंबर को 3 कंटक्टर काम पर वापस लौटे है लेकिन अब तक कोई भी चालक काम पर वापस नहीं लौटने से गोंदिया एसटी डिपो से अब तक एक भी बस नहीं छोड़ी गई है.

    इधर एक माह से चल रहे एसटी कर्मचारियों की हड़ताल के चलते दूरदराज ग्रामीण इलाकों के नागरिकों तथा विद्यार्थियों को आवागमन को लेकर काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. एक अवसर मानकर निजी टैक्सी चालक व ऑटो चालक यात्रियों से मनमाना किराया वसूल कर रहे हैं.

    गोंदिया बस स्थान प्रमुख सहेषराम नैकाने के अनुसार एसटी कर्मचारी अपनी विविध मांगों को लेकर पिछले एक माह से हड़ताल पर है. जिसके कारण आज तक गोंदिया डिपो से एक भी बस नहीं चली हैं. कर्मचारी अपनी मांगों के पूर्ण हुए बिना काम पर लौटने को तैयार नहीं है. शासन ने कार्रवाई करते हुए अब तक 19 कर्मचारियों को सेवा मुक्त तथा 22 कर्मचारियों को निलंबित किया है.