Court
प्रतीकात्मक तस्वीर

Loading

गोंदिया. रावणवाड़ी थाने के तहत चारगांव में फिर्यादी सहेदलाल चंभारु बिरनवार ने मकान निर्माण करने गड्ढा खोदा था. इस बीच आरोपियों ने साठगांठ कर फिर्यादी के प्लाट पर खोदे गए गड्ढे को बुझाकर उसके साथ हाथापाई की और जान से मारने का प्रयास किया. घटना 18 जून 2019 को हुई थी.

फिर्यादी की शिकायत पर पुलिस ने आरोपी सभी चारगांव निवासी हनसलाल गोपीचंद नागपुरे, दीपक हनसलाल नागपुरे, छोटेलाल श्यामलाल नागपुरे, गिरिजाशंकर चंदन दमाहे, गिरधारी श्यामलाल नागपुरे, सागराबाई गिरधारी नागपुरे, मैनाबाई हनसलाल नागपुरे के खिलाफ मामला दर्ज किया था.

आरोपियों के खिलाफ अपराध सिद्ध होने के बाद आरोपियों के खिलाफ दोषारोप पत्र 25 नवंबर 2019 को न्यायालय में पेश किया गया. जिला व सत्र न्यायाधीश ए. टी. वानखेडे ने 12 मार्च 2024 को आरोपी हनसलाल नागपुरे व दीपक नागपुरे को 5 वर्ष का सश्रम कारावास व 5 हजार रुपये जुर्माना, जुर्माने की राशि नहीं भरने पर 3 महीने का अतिरिक्त कारावास की सजा सुनाई है.

वहीं आरोपी 3 से 7 को निर्दोष बरी किया गया है. पुलिस अधीक्षक निखिल पिंगले, अपर पुलिस अधीक्षक नित्यानंद झा, उपविभागीय पुलिस अधिकारी रोहिणी बानकर के मार्गदर्शन में जांच अधिकारी पुलिस उपनिरीक्षक विनोद जोकार, हवलदार संजय चव्हाण ने जांच की. पुलिस निरीक्षक पुरुषोत्तम अहेरकर के मार्गदर्शन में पुलिस कर्मी यादोराव कुर्वे ने न्यायालयीन कामकाज संभाला. सरकारी अधिवक्ता खंडेलवाल ने सरकार का पक्ष रखा.