कोरोना काल में जिले की 83 युवतियां लापता, ऑपरेशन मुस्कान ने 68 युवतियां खोज निकाली

    गोंदिया. कोरोना काल में जिले की 83 युवतियां लापता हो गई. सन 2020 में 2 युवक व 39 युवतियां लापता हुई. इसमें से 2 युवक व 37 युवतियों की खोज की गई. जबकि 2 का अब तक पता नहीं लग पाया है. इसी तरह सन 2021 में 7 युवक व 44 युवतियां लापता हो गई हैं. इसमें से 5 युवक व 31 युवतियों की खोज करने में पुलिस को सफलता मिली है.

    वहीं 2 युवक व 13 युवतियां अब तक नहीं मिली हैं. कोरोना काल में फरार होने वाली 83 युवतियों में से ऑपरेशन मुस्कान ने 68 युवतियों को खोज निकाला है. वहीं 15 युवतियां अब भी लापता है. इसी तरह 2 नाबालिग युवक भी गायब है.

    83 प्रश. युवतियों की खोज

    जिले से भाग जाने या लापता होने वाली युवतियों में से 81.92 प्रश. युवतियों की खोज की गई है. यह सभी युवतियां अपने घर लौट गई है. जबकि 18 प्रश. युवतियां अब भी पुलिस के हाथ नहीं लगी है. शासन ने पुलिस के माध्यम से संचालित किए जा रहे ऑपरेशन मुस्कान से युवतियों की खोज करने में सफलता प्राप्त की है.

    सन 2020 में 50 दुष्कर्म

    जिले में सन 2020 में दुष्कर्म के 50 प्रकरण दर्ज किए गए है. इसी तरह हत्या के 33, हत्या का प्रयास 14, दुर्घटना में मृत्यु 131, डकैती के 2, राहजनी 6, घरफोड़ी 80, धोखाधड़ी 30, अपहरण 40, शासकीय कर्मचारियों पर हमला 15, दुष्कर्म 50 व विनयभंग के 84 प्रकरण विभिन्न थाने में दर्ज किए गए हैं.

    अपराध में नाबालिग की बढ़ रही संख्या

    जिला मुख्यालय में गोंदिया शहर को 2 पुलिस स्टेशन में विभाजित किया गया है. रामनगर व गोंदिया शहर इन दो पुलिस स्टेशन की सीमा में रहने वाले 18 वर्ष के निचे वाले बालक चोरी, डकैती, मारपीट, विनयभंग व हत्या जैसे गंभीर प्रकरणों में फंसे है. नाबालिग बालक को उचित संस्कार नहीं मिलने से मित्रों की मदद से वे गंभीर अपराधों में लिप्त हो रहे हैं.