Birsi, Gondia Airport

    गोंदिया.  सांसद प्रफुल पटेल के केंद्रिय  नागरिक उड्डयन मंत्री रहते क्षेत्र को मिली बड़ी सौगात बिरसी एयरपोर्ट  व पायलट प्रशिक्षण केन्द्र के स्थापित होने के कारण गोंदिया से पिछली 13 मार्च को हैदराबाद व इंदौर के लिये सीधी विमान सेवा शुरू होने का सौभाग्य  को मिल पाया, लेकिन वह सौभाग्य अब एक बार फिर दुर्भाग्य में परिवर्तित होने जा रहा है. 

     21 से बुकिंग बंद

    फ्लाईबिग एयरलाइंस द्वारा शुरू की गई गोंदिया से हैदराबाद व  इंदौर की विमान सेवा 21 अगस्त से बंद होने जा रही है.  जानकारी के अनुसार कंपनी द्वारा इसकी बुकिंग भी 21 अगस्त से बंद कर दी गई है.  

    एयरपोर्ट प्रशासन पर असहयोग के आरोप 

     20 अगस्त को गोंदिया विमानतल पर यात्री विमान का यह आखरी दिन होगा और जो संकेत मिले हैं उनके अनुसार विमान सेवा के प्रारंभ से ही विमान कंपनी द्वारा स्थानीय एयरपोर्ट प्रशासन पर असहयोग के आरोप लगते रहे हैं, इसके बावजूद विमानतल पर कोई सुधार नहीं किया गया, जिसके बाद मजबूरी में अब फ्लाई बिग कंपनी ने विमान सेवाएं बंद करने का फैसला कर लिया है. सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार संभवत एक-दो दिन में इसकी अधिकृत घोषणा भी कर दी जायेगी. 

    टर्मिनल बिल्डिंग से दूर खड़ा किया जाता था विमान

    उल्लेखनीय है कि 13 मार्च को यहां से विमान सेवा प्रारंभ हुई थी, तब यह जानकारी सामने आई थी कि प्रथम दिन ही केवल विमान को टर्मिनल बिल्डिंग (डिपार्चर गेट)  के समीप खड़ा किया गया था.  कंपनी द्वारा अनेकों बार विमान को टर्मिनल बिल्डिंग के समीप ही खड़े करने को लेकर निवेदन किया गया लेकिन प्रशासन ने उनकी एक न सुनी और नियमित रूप से विमान को टर्मिनल बिल्डिंग से दूर दूसरी बिल्डिंग हैंगर के समीप खड़ा किया जाता था जिससे यात्रियों को आने जाने में  कठिनाई होती थी. यही नहीं विमान को यहां उतरने को लेकर भी काफी मशक्कत करनी पड़ती थी.

    क्लीयर विजिबिलिटी की समस्या बन रही थी रुकावट 

     एक तरफ विमानतल प्रशासन का ऐसा असहयोग तो वहीं दूसरी ओर विमान की लैंडिंग में क्लीयर विजिबिलिटी भी बड़ी बाधा बनती रही.  अनेक बार ऐसे वाकये सामने आये कि जब हैदराबाद से उड़े विमान को सीधे इंदौर ले जाया जाता था व इंदौर से विमान के बिरसी विमानतल पर आसमान में घंटों अतिरिक्त उड़ने के बाद नागपुर विमानतल में  उतारा जाता था.  पायलट द्वारा क्लीयर विजिबिलिटी को लेकर अनेकों बार एयर ट्रेफिक कंट्रोल से बोला भी गया लेकिन यहां विमान उतारने नहीं दिया जाता था. इस तरह के घटनाक्रम से परेशान होकर आखिरकार फ्लाईबिग कंपनी द्वारा विमान सेवा बंद करने का निर्णय लिये जाने की जानकारी सामने आई है. 

    पड़ोसी जिलों को भी मिल रहा था लाभ

    यह उल्लेखनीय है कि गोंदिया से विमान सेवा शुरू होने के बाद ना सिर्फ गोंदिया जिले के नागरिक, बल्कि बड़ी संख्या में पड़ोसी जिलों में बालाघाट, सिवनी, राजनांदगांव आदि जिलों के व्यवसायी, अधिकारी और नागरिक बिरसी एयरपोर्ट से हैदराबाद व इंदौर की विमान यात्राओं का लाभ ले रहे थे. क्षेत्र की जनता में विमान सेवाओं के शुरू होने से बड़ा हर्ष व्याप्त था और एक उम्मीद थी कि जल्द ही गोंदिया से दिल्ली, मुंबई,  अहमदाबाद, पुणे, बैंगलोर आदि महानगरों की विमान सेवाओं की सौगात भी मिल सकेगी, लेकिन जिस तरह की जानकारी  सामने आई है, वह ना सिर्फ गोंदिया जिले के लोगों की उम्मीदों पर पानी फेरने वाली साबित होगी, बल्कि इससे  बड़े पैमाने पर असंतोष व्याप्त होने की   संभावनाओं से भी इनकार नहीं किया जा सकता.