सड़क पर काली मिट्टी यातायात के लिए बनी परेशानी

    • गोरेगांव-ठाना मार्ग निर्माण कार्य में मुरूम के बजाय मिट्टी का उपयोग 

    गोरेगांव . गोरेगांव- ठाना मार्ग पर यातायात में दिक्कतें थमने का नाम नहीं ले रही है. पहले मार्ग पर बने गहरे गड्ढों से समस्या निर्माण हो रही थी लेकिन अब सड़क किनारे डाली गई काली मिट्टी यातायात में बाधा बनी हुई है. निर्माण कार्य के दौरान साइड बम कार्य में मुरूम के बजाय निकृष्ट दर्जे की काली मिट्टी का उपयोग किया गया है.

    जिसके कारण सड़क दोनों ओर से कीचडमय हो गई है जो  यातायात के लिए बाधा बनी हुई है. यहां एक साथ दो वाहनों का गुजरना नामुमकिन सा हो गया है. जिससे प्रतिदिन ट्रैफिक जाम जैसी समस्या निर्माण होने लगी है.

    उल्लेखनीय है कि गोरेगांव-ठाना मार्ग यातायात के नजरिए से मुख्य मार्गो में से एक है. यहां बड़ी संख्या में नागरिक मार्ग से आवागमन करते हैं लेकिन पिछले कुछ महीनों से आवागमन करना यहां खतरनाक साबित हो रहा है.  सार्वजनिक बांधकाम विभाग के तहत इस मार्ग का निर्माण कार्य हाल ही में किया गया है लेकिन निर्माण कार्य जब से शुरू हुआ तब से ही निर्माण कार्य की योग्यता पर सवाल उठते रहे हैं.

    जिसमें निर्माण कार्य के दौरान कुछ ही दिनों के भीतर डामरीकरण उखड़ने जैसी समस्या शामिल है. ऐसे में  निर्माण कार्य को लेकर अनेक बार समाचार भी प्रकाशित कियए गए हैं लेकिन संबंधित विभाग ने शिकायतों को गंभीरता से नहीं लिया है. जिसका दुष्परिणाम अब सामने आ रहा है. यहां बरसात शुरू होते ही समस्या भी शुरू हो गई.

    ठेकेदार द्वारा अधिक पैसा बचाने के चक्कर में साइड बम जैसे अति महत्वपूर्ण कार्य में मुरूम के बजाय निकृष्ट दर्जे की काली मिट्टी डाली गई है जिसके चलते सड़क किनारे के दोनों परिसर दलदल के रुप में तब्दील हो गए है. ऐसे में मार्ग से एक साथ दो फोर वीलर वाहनों को गुजरने में बहुत दिक्कतें आ रही है. रात के दौरान यहां यातायात करना खतरनाक  साबित हो रहा है.

    जिसमें यहां बार बार ट्रैफिक जाम जैसी समस्या भी निर्माण हो रही है.  गोरेगांव-ठाना पर यह समस्या अनेक महीनों से निरंतर चल रही है इस बीच सार्वजनिक बांधकाम उपविभागीय कार्यकारी अभियंता कोकारडे ने बताया कि ठाना मार्ग निर्माण कार्य में ठेकेदार का बिल रोका गया है साथ ही इस समस्या को जल्द से जल्द दूर करने के निर्देश विभाग द्वारा कंस्ट्रक्शन कंपनी को दिए गए हैं.