corona crisis

    गोंदिया. जिले में फिर एक बार कोरोना संक्रमण में भारी उछाल आया है. वर्तमान में जिले में 1548 सक्रिय मरीजों के घरों पर कोरोना प्रतिबंधित क्षेत्र का बोर्ड लगाया गया है. वहीं जिले में वायरल संक्रमण का आंकडा भी तेजी से बढ़ रहा है. 23 जनवरी को 315 मरीज पाए गए थे लेकिन राहत की बात यह है कि 24 को प्राप्त रिपोर्ट में 150 मरीज सामने आए.

    वर्तमान में लगभग सभी घरों में सर्दी, बुखार और खांसी के मरीज हैं, जिससे स्वास्थ्य विभाग का टेंशन दोगुना बढ़ गया है. अचानक बदले मौसम में कोरोना संक्रमण का खतरा और बढ़ गया है. कोरोना की तीसरी लहर की एंट्री हो चुकी है. ऐसे में अचानक बदला मौसम खतरे की घंटी है. बेमौसम बरसात, नमी और कोहरे के कारण तापमान गिरने से हवा में ठंडक बढ़ी है.

    मौसम में नमी के कारण  एक साथ कई लोग संक्रमित हो रहे हैं. कोरोना की पिछली दोनों लहरों को देखें तो दोनों लहर सर्दी के जाते हुए गर्मी में आई. जबकि तीसरी लहर की एंट्री तब हुई है जब सर्दी पीक पर है. सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखना जरूरी है.  एक-दूसरे से दूरी बनाए रखने से  संक्रमण के खतरे को कम किया जा सकता है.  कोरोना  के मामले लगातार बढ़ रहे हैं.   जिससे  सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना  अहम  है.

    बच्चे -बुढ़े सभी परेशान 

    ठंड, बदरीले मौसम से कई लोगों के स्वास्थ्य को प्रभावित किया है. सर्दी, सिरदर्द, बुखार, खांसी, शरीर में दर्द और गले में खराब ऐसी कई परेशानियों से लोग त्रस्त है. इसमें ज्यादातर बच्चों और बुजुर्गों को वायरल फीवर ने जकड़ा है.  सरकारी रिपोर्ट में कोरोना पॉजिटिव व्यक्ति का नाम सामने आने के बाद प्रशासन द्वारा संबंधित संक्रमित व्यक्ति के घर पर कोरोना प्रतिबंधित क्षेत्र का  स्टीकर लगाएं जा रहे हैं.   इसके लिए स्वास्थ्य विभाग का दल कार्यरत है.