Investment of crores in the name of colleagues, demand for increased police custody

    गोंदिया. धोखाधड़ी प्रकरण में बंदी आरोपियों को ग्रामीण पुलिस स्टेशन के सहायक पुलिस निरीक्षक चव्हान ने 28 मार्च को तीसरे सह दिवाणी कनिष्ठ स्तर न्यायालय के न्यायाधीश वी.के. आसुदानी के समक्ष पेश किया जहां 1 महिला सहित 5 आरोपियों को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भंडारा जेल भेज दिया गया.  वहीं 4 आरोपियों को अलग अलग पुलिस हिरासत दी गई हैं.

    इसमें तांडा अदासी निवासी उत्तमचंद मोहन खांडेकर व 1 महिला को 31 मार्च तक पुलिस हिरासत दी गई है. वहीं कोलकाता निवासी दानीश विलास आलम उर्फ रसीद अनवर आलम तथा कुंदनकुमार शर्मा को 10 दिन की 6 अप्रेल तक पुलिस हिरासत दी गई है.

    न्यायालयीन कार्रवाई के दौरान एड.निजाम शेख, एड.विवेक बारापात्रे व एड.तोलानी सहित अन्य अधिवक्ताओं ने आरोपियों की पुलिस हिरासत का विरोध किया लेकिन पुलिस अधिकारी चव्हान व महिला सरकारी अभियोक्ता ने वजनदार तरीके से न्यायालय के समक्ष अपनी बात रखी है. उल्लेखनीय है कि धोखाधड़ी जैसे प्रकरणों को पुलिस गंभीरता से नहीं लेती है. जबकि इस प्रकरण की जांच कर रहे पुलिस अधिकारी चव्हान ने कमाल कर दिया है.

    इसके पूर्व न्यायालय से वे आरोपियों की 10 दिन की पुलिस हिरासत ले चुके है. इसके बाद वे आरोपियों को कोलकाता लेकर गए जहां से 2 आरोपियों को गिरफ्तार करने में उन्हें सफलता मिल गई. इसी तरह कोलकाता के आरोपी जो पुर्व बिहार पटना के निवासी है उनकी भी 10 दिन की पुलिस हिरासत अवधि मिल चुकी है.

    ग्रामीण पुलिस स्टेशन के पुलिस निरीक्षक बालासाहब बोरसे इस प्रकरण को गंभीरता से ले रहे है. क्योंकि इस धोखाधड़ी प्रकरण के मुख्य आरोपी उत्तमचंद खांडेकर के खिलाफ अनेक अपराधिक मामले दर्ज हैं. इतना ही नहीं उसके खिलाफ पुलिस मकोका लगाने का प्रयास कर रही है. लेकिन उक्त प्रकरण सहित अन्य प्रकरण मकोका के दायरे में बैठ नहीं रहे है. जिससे पुलिस ने मकोका लगाने का विचार छोड़ दिया है. उल्लेखनीय है कि नागपुर की मोतीलाल नगर निवासी सुजाता विनोद बंसोड़ की शिकायत पर ग्रामीण पुलिस स्टेशन में धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया गया है.

     इस प्रकरण में पुलिस ने तांडा निवासी उत्तमचंद खांडेकर, नागपुर निवासी प्रमोद वासुदेव रामटेके, तांडा निवासी अश्विनकुमार विश्वनाथ गजभिये, नागपुर निवासी मनोज महादेव गभने, तांडा निवासी रंजीत राजाराम डहाटकर, कोलकाता निवासी दानीश विलास आलम उर्फ रसीद अनवर मालम, कुंदन कुमार शर्मा व 2 महिलाओं सहित कुल 9 आरोपियों को गिरफ्तार किया है जिन्होंने  अनेक सुशिक्षित बेरोजगारों को नौकरी लगा देने के नाम पर उनसे मोटी रकम ऐंठकर धोखाधड़ी की है.  जांच थानेदार बालासाहब बोरसे के मार्गदर्शन में सहायक पुलिस निरीक्षक चव्हान कर रहे हैं.