बिरसी विमानतल को कुंवर तिलक सिंह नागपुरे नाम देने की मांग

    Loading

    गोंदिया. महान दानदाता जमींदार कुंवर तिलकसिंह ने समाज के हर वर्ग का ध्यान रखकर कई जन कल्याणकारी कार्य किए है. द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान ब्रिटिश सरकार ने उनकी मालकियत की 460 एकड़ जमीन पर ही विमानतल उनके परामर्श पर बनाया था जिसका प्रमाण सन 1917 के P1 व P2 दस्तावेज में उपलब्ध है.

    उसी प्रकार जिला अस्पताल के लिए शहर के मध्य 10 एकड़ भूमि व 10 लाख रु. दान स्वरूप दिए. कृषि विकास के लिए  कारंजा में 65 एकड़ जमीन उपलब्ध कराई, जहां वर्तमान में पुलिस मुख्यालय स्थित है.

    शिक्षा के विकास के लिए उनके द्वारा कामठा, अर्जुनी, हिरडामाली, फुलचुर, कारंजा, सोनबीहरी ऐसे अनेकों  ग्रामों में सैकड़ों एकड़ भूमि दान स्वरूप दी गई. भंडारा में जलापूर्ती योजना स्वयं की निधि से 1943 में शुरू की. उसी प्रकार गोंदिया में गौशाला के लिए 35 एकड़ भूमि व रेलटोली के गुरुद्वारा के लिए दान की.

    ऐसे समाजसेवी और दानवीर के नाम पर ही उनकी मालकियत की जमीन पर निर्मित विमानतल का नाम कुंवर तिलकसिंह नागपुरे रखा  जाए ऐसी मांग क्षेत्र की जनता कर रही है. इसे लेकर ज्ञापन सांसद सुनील मेंढे को सुनील लिल्हारे, उमाशंकर उपवंशी, सुरेश लिल्हारे, नंदकिशोर बिरणवार के नेतृत्व में सौंपा  गया. कुंवर तिलकसिंह के वंशज नीरजसिंह नागपुरे, आलोक संघ के सदस्य सूर्यकांत नागपुरे, कृष्ण गहगये, संजू बाबा नागपुरे, रतनलाल मंडिये, सुखदास लिल्हारे, के. आर. माहुले, जितेंद्र नागपुरे, संजय नागपुरे, सियानंद लाल नागपुरे आदि के अलावा सुनील लिल्हारे, अंकुश वर्मा आदि उपस्थित थे.