गोंदिया व गोरेगांव तहसील में अतिवृष्टि, पुजारीटोला जलाशय के 12 गेट खोले गए

    गोंदिया. जिले में पिछले चार दिनों से हो रही लगातार बारिश से जनजीवन ठप पड़ गया है. जिले के जलाशयों व तालाबों में पहले की अपेक्षा अब जलसंग्रह काफी बढ़ गया है. जिले के मुख्य पुजारीटोला जलाशय से 12 सितंबर को सुबह 7 बजे 12 गेट 0.30 मीटर खोल दिए गए. इस जलाशय में पानी का स्तर लगातार बढ़ रहा था. पुजारीटोला जलाशय में जलस्तर 319.40 मी. है. जबकि जलसंग्रह 43.04 दलघमी है. जिसका प्रश. 98.88 है. इसमें 295.63 क्यूसेक 10440 क्युसेक पानी प्रवाहित किया गया है.

      इस बीच आमगांव-सालेकसा मार्ग (आमगांव-साखरीटोला प्वाइंट) बाघ नदी से होकर पहुंचेगा.  पुजारीटोला बांध (आमगांव-साखरीटोला पॉइंट) से बाघ नदी के रास्ते अगले 10 घंटे में यानी 12 सितंबर को रात 10 बजे से 11 बजे तक विसर्ग का पानी छोड़ा जाएगा. इस बीच रजेगांव घाट (गोंदिया बालाघाट ब्रिज) बाघ नदी के रास्ते गोंदिया पहुंचेगा. इसके साथ ही बाघ नदी के किनारे रहने वाले ग्रामीणों को सतर्क रहने की सूचना दी गई है. यह जानकारी बाघ इटियाडोह पाटबंधारे विभाग गोंदिया के आर.आर.मेश्राम ने दी है.

    गोंदिया व गोरेगांव में अतिवृष्टि

    जिले में 49.3 मिमी.बारिश दर्ज की गई है. जबकि गोंदिया व गोरेगांव इन दो तहसीलों में अतिवृष्टि हुई है. जिले की सभी 8 तहसीलों में इस तरह बारिश हुई है. इसमें गोंदिया तहसील अंतर्गत 76.0, आमगांव 44.4, तिरोड़ा 33.4, गोरेगांव 67.3, सालेकसा 63.1, देवरी 46.8, अर्जुनी मोरगांव 24.1 व सड़क अर्जुनी तहसील में 33.4 मिमी. बारिश का समावेश है. जिले में बारिश होने का क्रम लगातार बना हुआ है. मौसम विभाग ने भी बारिश होने की संभावना व्यक्त की थी.

    जिससे मौसम विभाग का अनुमान बिलकुल सच साबित हो गया है. जिले में रविवार की रात में जोरदार बारिश हुई है. इसके बाद रविवार को ही दोपहर 4 बजे मुसलाधार बारिश ने हाजरी लगाई है. वैसे रविवार को अवकाश का दिन होने से मार्गों पर हमेशा की तरह लोग दिखाई नहीं दे रहे थे. जिले में इसी तरह बारिश होने का दौर शुरू रहा तो जल्द ही बारिश अपना मिनीमम लक्ष पूर्ण कर लेगी.

     जिले के जलाशयों के जलसंग्रह में वृद्धि

     जिले में गत तीन दिनों से हुई   बारिश से जिले के जलाशयों के जलस्तर में भारी वृद्धि हुई है. दो सप्ताह में जिले के राज्य शासन के पाटबंधारे विभाग वाले मध्यम, लघु व मामा तालाब जैसे 69 प्रकल्पों में 12 प्रश.जलसंग्रह बढ़ा है. 27 अगस्त को इन जलाशयों में 31.12 प्रश. जलसंग्रह दर्ज किया गया था.

    लेकिन 11 सितंबर को 43.35 जलसंग्रह दर्ज किया गया है. उल्लेखनीय है कि जिले के अधिकांश जलाशयों में अब भी समाधानकारक जलसंग्रह नहीं है. जिले में मिनीमम 85.2 प्रश. बारिश जिला प्रशासन ने दर्ज की है. गत वर्ष इसी दिन जिले के कुल 69 जलाशयों में 93.86 प्रश. जलसंग्रह था. जबकि वर्तमान में यह केवल 43.35 प्रश. है. जिले में पिछले तीन दिनों से सतत बारिश हो रही है. इसमें गोरेगांव, देवरी, सालेकसा व सड़क अर्जुनी इन तहसीलों में अतिवृष्टि दर्ज की गई है. जिले में 10 सितंबर को मिनीमम 48.8 मिमी.बारिश दर्ज की गई.

    जबकि 11 सितंबर को 14.8 मिमी.बारिश हुई है. जिले में 1 जून से 11 सितंबर इस अवधि में 1094.95 मिमी. बारिश अपेक्षित है. वहीं प्रत्यक्ष में 932.7 मिमी. याने मिनीमम की तुलना में 85.2 प्रश. बारिश हुई है. इस बार जिले में शुरूआत से ही अनियमित बारिश हुई है. 9 मध्यम जलाशयों में वर्तमान स्थिति में 41.60 प्रश., 22 लघु प्रकल्पों में 41.52, 38 मामा तालाबों में 56.62 इस तरह कुल 69 जलाशयों में 43.35 प्रश. जलसंग्रह है. जबकि गत वर्ष इसी तारीख में क्रमश: 93.32, 95.01, 92.23 इसी तरह कुल 93.86 प्रश. जल संग्रह उपलब्ध था. इसमें गोरेगांव तहसील स्थित तेढा के एकमात्र मामा तालाब में 100 प्रश. जलसंग्रह है.

    मध्यम प्रकल्पों की स्थिति

    जिले के जलाशयों की वर्तमान में स्थिति इस प्रकार है. इसमे बोदलकसा 22.21, चोरखमारा 13.84, चुलबंद 30.94, खड़बंदा 30.24, मानागढ़ 19.19, रेंगेपार 35.88, संग्रामपुर 29.20, कटंगी 49.4 व कलपाथरी 60.23 इस तरह कुल 28.69 प्रश. जलसंग्रह का समावेश है.