धान खरीदी की सीमा बढ़ाएं, राकांपा ने सौंपा ज्ञापन

    गोंदिया. जिले के रबी धान फसल उत्पादक किसान बड़े संकट में फंस गए है. जिले में इस वर्ष 65 हजार हेक्टर में रबी धान की फसल ली गई. उत्पादन क्षेत्र अधिक होने पर भी शासन के कृषि विभाग द्वारा केवल 43 क्विंटल प्रति हेक्टर उत्पादन क्षमता निर्धारित की गई. अनेक वर्षो से रबी फसल की धान खरीदी शासन की ओर से गारंटी भाव से की जाती है. इस वर्ष भी रबी धान फसल की खरीदी की गई लेकिन खरीदी की सीमा कम करने से किसान वर्ग संकट में आ गए.

    पिछले वर्ष मार्केटिंग फेडरेशन व आदिवासी महामंडल ने मिलकर 28 लाख क्विंटल धान खरीदी की. लेकिन इस वर्ष मार्केटिंग फेडरेशन व आदिवासी विकास महामंडल ने 13 लाख क्विंटल धान खरीदी करने का लक्ष्य रखा जिससे अनेक किसानों का लाखों क्विंटल धान घर पर ही रह गया. यदि धान खरीदी की सीमा बढ़ाई नहीं गई तो किसानों को अपना धान गिरी हुई कीमत में 1940 की जगह 1200 रु. प्रति क्विंटल की दर से बेचना पडेगा ऐसे में इन किसानों  के पास आत्महत्या करने के अलावा दूसरा रास्ता नहीं रहेगा.

    इस मुद‍्दे को लेकर राकांपा द्वारा जिलाधीश को ज्ञापन सौंपा गया. प्रतिनिधि मंडल में जिला राकांपा अध्यक्ष गंगाधर परशुरामकर, डा. अविनाश काशीवार, रमेश चुर्हे, केतन तुरकर, योगेश पडोले, प्रभू लोहिया, प्रल्हाद बावनकुले, आत्माराम कापगते, ग्यानीराम कापगते, दिलीप कापगते, होमेश्वर परशुरामकर, प्रेमकुमार रहांगडाले आदि का समावेश था. इनके साथ ही बड़ी संख्या में किसानों ने धान खरीदी की सीमा बढ़ाने की मांग की है.