P. Bengal allowed net metering to individual households to promote solar energy

    गोंदिया. विद्युत विभाग के घरेलु श्रेणी वाले ग्राहकों को घर पर सौर ऊर्जा यंत्र लगाने के लिए केंद्र सरकार की सौर टॉफ योजना अंतर्गत 40 प्रश तक अनुदान मिलने वाला है. इस योजना के तहत गृहनिर्माण संस्थाओं को भी 20 प्रश अनुदान मिलेगा. इससे नागरिकों को बडे पैमाने पर विद्युत बिलों की बचत होगी.

    केंद्र सरकार की नई व नवीनीकरण ऊर्जा मंत्रालय के माध्यम से क्रियान्वित की जाने वाली सौरटॉफ योजना के अनुसार घरेलु श्रेणी वाले ग्राहकों को लगभग एक किला वॅट क्षमता की छत पर सौर ऊर्जा निर्माण मशीनरी लगाने के लिए केद्र सरकार द्वारा वित्तीय सहायता दी जाएगी. इसमें 1 से 3 किलो वॅट तक 40 प्रश व 10 किला वॅट तक 20 प्रश अनुदान मिलेगा.

    इसी तरह गृह निर्माण कल्याणकारी संगठनों को 20 प्रश अनुदान मिलेगा. इस योजना की प्रक्रिया क्रियान्वित करने के लिए महावितरण के गोंदिया परिमंडल में एजेंसी की नियुक्ति की गई है. इस योजना का लाभ लेने नागरिकों के लिए विद्युत विभाग की बेवसाईट पर ऑनलाईन आवेदन की सुविधा उपलब्ध करा दी गई है. 

    रुफटॉफ योजना अंतर्गत कीमत की घोषणा 

    केंद्र सरकार की नई व नवीनीकरण ऊर्जा मंत्रालय द्वारा सौर ऊर्जा यंत्र का लाभ लेने के इच्छुक ग्राहकों को 5 वर्ष का देखभाल खर्च सहित 1 किलो वॅट की ऊर्जा निर्मिती के लिए 46 हजार 470, 2 से 3 किला वॅट के लिए 41 हजार 380, 3 से 10 किला वॅट के लिए 40 हजार 290 व 10 से 100 किलो वॅट के लिए 37 हजार 20 रु प्रति किलावॅट खर्च आयगा. इस खर्च में ग्राहकों को ऊर्जा मंत्रालय से 40 प्रश अनुदान मिलेगा. यह खर्च पुन: कम होने वाला है.

     विद्युत बिलों का दूर होगा टेंशन

    हर महीने 100 युनीट तक उपयोग करने वाले घरेलु ग्राहकों को 1 किला वॅट क्षमता की सौर मशीनरी से विद्युत बिल में वर्तमान विद्युत दर के अनुसार हर महीने लगभग 550 रु की बचत होगी. इसी तरह इस यंत्र में लगाए गए नेट मीटश्र रिडिंग के अनुसार वर्ष के अंत में शेष विद्युत प्रति युनीट नुसार महवितरण खरीदी करेगा. जिससे ग्राहकों को इसका आर्थिक लाभ मिलेगा. इतना ही नहीं हर महीने विद्युत बिल भुगतान का टेंशन भी नहीं रहेगा.