ST BUS
File Photo

    गोंदिया. कोरोना का दूसरा चरण शुरू होने के बाद छत्तीसगढ़ व मध्य प्रदेश राज्य शासन ने महाराष्ट्र की एसटी बसेस की एंट्री पर प्रतिबंध लगा दिया था. लेकिन जून माह से कोरोना का दूसरा चरण नियंत्रण में आने के बाद छत्तीसगढ़ राज्य में जाने वाली गोंदिया डिपो की बस फेरी शुरू हो गई थी. जबकि मध्य प्रदेश शासन की अनुमति नहीं होने  से वहां जाने वाली गोंदिया व तिरोड़ा इन दोनों डिपो की बस फेरियां बंद थी. इसी में अगस्त माह में मध्य प्रदेश शासन ने अनुमति दी है. जिससे दोनों डिपो की बसेस पुन: शुरू हो गई है. इन फेरियों को अच्छा प्रतिसाद मिलने से आय भी बढ़ गई है.

    डोंगरगढ़ व नागपुर-छिंदवाड़ा बसों को अच्छा प्रतिसाद

    रापनि के गोंदिया डिपो की बसेस छत्तीसगढ़ राज्य के डोंगरगढ़  व मध्य प्रदेश के छिंदवाड़ा में नागपुर होकर बसें जा रही हैं. इन बसों को  अच्छा प्रतिसाद मिल रहा है. छिंदवाड़ा के लिए ट्रेन सेवा नहीं होने व डोंगरगढ़ के लिए ट्रेन सेवा नहीं होने व डोंगरगढ़ के लिए एसटी की एक फेरी होने से यात्री एसटी को प्राथमिकता दे रहे हैं.

    डिपो के लिए लाभदायक

    अप्रेल माह में कोरोना का दूसरा चरण शुरू हो गया था. तब से छत्तीसगढ़ व मध्य प्रदेश राज्य की एसटी फेरियां बंद थी. लेकिन छत्तीसगढ़ राज्य की फेरी तत्काल शुरू हो गई थी. वहीं मध्य प्रदेश शासन ने अगस्त माह से अनुमति दी है. जिससे निगम की फेरियां पूर्ववत शुरू हो गई हैं. इससे डिपो को बड़ा लाभ मिल रहा है. यह डिपो की आय बढ़ाने में भी मददगार साबित हो रहा है.

    चालक परिचालक का 90 प्र. टीकाकरण पूर्ण

    जिले में गोंदिया व तिरोड़ा इस तरह दो डिपो हैं. इनमें  लगभग 90 चालक व परिचालकों ने अपना टीकाकरण करा लिया है. इसमें कुछ ने पहला व कुछ कर्मचारियों ने दूसरा डोज लिया है. विशेष बात यह है कि एसटी में ड्युटी करते समय अनेक नागरिकों से संपर्क आता है. जिससे उन्हें खतरा न हो इसके लिए चालक परिचालकों ने सजग होकर टीकाकरण करा लिया है.

    दूसरे राज्य में जाने वाली बसेस

    गोंदिया व तिरोड़ा डिपो से अनेक बसेस दूसरे राज्यों में भेजी जा रही हैं. इसमें गोंदिया-बालाघाट, गोंदिया-मलाजखंड, गोंदिया-छिंदवाड़ा, गोंदिया-डोंगरगढ़ व तिरोड़ा-बालाघाट का समावेश है.