wardha police
File Photo

गोंदिया. थर्टी फर्स्ट मनाने का अपना एक अलग मजा होता है लेकिन इस बार कोरोना के चलते व पुन: ब्रिटेन में मिले कोरोना के नए स्ट्रेन से नागरिक सकते में आ गए हैं. इतना ही नही राज्य शासन ने थर्टी फस्ट के पूर्व ही रात 11 से सुबह 6 बजे तक संचारबंदी लागू की है. इस दौरान लोग बड़ी संख्या में इकट्ठा नहीं हो सकेंगे.

पुलिस की रहेगी पैनी नजर

जिले में प्राय: थर्टी   फर्स्ट की रात आलम यह होता है कि लोग जगह जगह नए वर्ष के स्वागत के लिए इकट्ठा होकर नाच गाना व मस्ती भरे माहौल में दिखाई देते हैं. लेकिन इस बार पुलिस विभाग की उन पर पैनी नजर रहेगी. जिला पुलिस विभाग ने संपूर्ण जिले में थर्टी   फर्स्ट के लिए कड़ा बंदोबस्त किया है. इस संबंध में उप विभागीय पुलिस अधिकारी जगदीश पांडे ने बताया कि पुलिस की रातभर गश्त लगाई गई है. रात 1 बजे तक कुछ विशेष स्थानों पर फिक्स पाइंट बनाए गए हैं. पांडे ने नागरिकों से आह्वान किया है कि वे शासन की गाइड लाइन का पालन करें. नए वर्ष का स्वागत अपने घरों पर रहकर करें. 

ड्रंकन ड्राइव वाले भी नपेंगे

जिले में थर्टी फस्ट मनाने वाले अधिकांश युवक शराब के शौकीन होते हैं. इसमें चार यार मिलकर शराब का लुत्फ पॅग के साथ उठाते हैं. लेकिन शराब सेवन के बाद वाहन चलाते वक्त वे पकड़े भी जाते हैं. जिले में गत वर्ष 2019 में ड्रंकन ड्राइव के कुल 61 मामले दर्ज किए गए थे. इसमें भी विशेषकर थर्टी फस्ट के दिन 6 प्रकरण दर्ज हुए थे.

इस संदर्भ में जिला यातायात नियंत्रण कक्ष के पुलिस निरीक्षक तायडे ने बताया कि इस बार भी थर्टी फस्ट को ड्रंकन ड्राइव करने वालों पर पुलिस विभाग की विशेष नजर रहेगी. जिले के सभी थानों में तैनात पुलिस अधिकारियों को जिला पुलिस अधीक्षक विश्व पानसरे ने थर्टी फस्ट के दिन गस्त बढ़ाकर कानून व्यवस्था बनाए रखने के निर्देश दिए हैं.