प्रतीकात्मक तस्वीर
प्रतीकात्मक तस्वीर

    गोंदिया. वाहन चलाने के लिए कुछ नियम निर्धारित कर दिए गए हैं जो  वाहन चालकों व  सामने वाले व्यक्ति की सुरक्षा के लिए है. इसके बावजूद अनेक लोग नियमों को तोड़कर वाहन चलाते हैं. जिसका परिणाम दुर्घटना के रूप में सामने आता है. इसमें अनेक बार दुर्घटना से जान पर बन आती है. इतना ही नहीं वाहन चलाने वाले व्यक्ति सहित मार्ग से जाने वाले व्यक्ति की भी जान जाती है.

    जिससे यातायात के नियम तोडने वालों पर दंडात्मक कार्रवाई की जाती है. बार बार नियम तोडने वाले का यातायात नियंत्रण विभाग द्वारा लायसेंस भी रद्द किया जाता है. इसके लिए वाहन चलाने वालों पर जिला यातायात नियंत्रण कक्ष की नजर हैं. नियमों का उल्लंघन करने वाले वाहन चालक की लायसेंस रद्द हो सकती है.

    इस नियम को तोडने पर लायसेंस निलंबित

    वाहन चलाते समय मोबाइल का उपयोग करना या तेज गति से वाहन चलाने, नशे में  या सिग्नल तोड़कर यातायात नियम के उल्लंघन करने,  इसी तरह माल यातायात वाहन से यात्री यातायात तथा अवैध रूप से यात्री यातायात करने पर भी लायसेंस रद्द किया जा सकता हैं.

    ऐसे होती है कार्रवाई

    यातायात के नियम तोडऩे वाले व्यक्ति को दो तीन बार दंडात्मक कार्रवाई कर छोड़ दिया जाता है. लेकिन बार बार यातायात नियम के उल्लंघन होने पर संबंधित व्यक्ति का लायसेंस रद्द करने की कार्रवाई की जाती है. इसके लिए प्रादेशिक परिवहन विभाग को प्रस्ताव भेजा जाता है. वहां से अनुमति मिलने के बाद संबंधित व्यक्ति का वाहन जब्त किया जाता है.

    पहले समय देने के बाद कार्रवाई

    किसी व्यक्ति ने यातायात नियम का उल्लंघन किया तो उस पर दंडात्मक कार्रवाई की जाती है. इसके बाद भी बार बार वह  यातायात नियमों का उल्लंघन कर रहा होगा तो उसे निर्धारित अवधि के लिए समय दिया जाता है. इसके बाद भी उसमे सुधार नहीं दिखाई देने पर लायसेंस रद्द करने की कार्रवाई की जाती है.

    नियमों का पालन करें – हांडे

     जिला यातायात नियंत्रण कक्ष के सहायक पुलिस निरीक्षक युवराज हांडे ने कहा कि  यातायात के नियम यह सभी की सुरक्षा के लिए है. यातायात के नियम तोड़कर वाहन चलाने से उसके दुष्परिणाम  दुर्घटना के रूप में दिखाई देते है. जिससे नियमों का पालन करके ही हमेशा वाहन चलाएं क्योंकि यातायात पुलिस की वाहन चालकों पर नजर है. नियम तोडऩे पर कार्रवाई की जाएगी.