चाइल्ड पोर्नोग्राफी सर्च करने पर जाना होगा जेल

    गोंदिया. चाईल्ड पोर्नोग्राफी रोकने के लिए सायबर पुलिस ने विशेष अभियान शुरू किया है. चाईल्ड पोर्नोग्राफी बनाना, देखना, फारवर्ड करना और उसे प्रोत्साहन देना कानूनी अपराध है. पोर्नोग्राफी ऑनलाइन सर्च करना यह भी अब महंगा पड़ सकता है. सायबर पुलिस की ऐसे सर्च करने वालों पर कड़ी नजर  है.

    जिससे पोर्नोग्राफी सर्च करने पर सीधी जेल की हवा खानी पड़ सकती है. केंद्र सरकार ने चाईल्ड पोर्नोग्राफी संदर्भ में संकेत स्थल पर प्रतिबंध लगाया है. जिससे अनेक शौकीन विदेशी सर्वर पर इंटरनेट के माध्यम से विभिन्न साईट्स सर्च कर चाईल्ड पोर्न देखते है. इसके बाद वे वीडियो वाट्सएप ग्रुप पर भेजते है. इन भेजने वालों  के साथ ही सर्च करने वालों पर अब सायबर पुलिस का ध्यान है.

    मोबाईल आपका, ध्यान सायबर का

    मोबाईल स्वयं का है फिर भी उस पर सायबर पुलिस का ध्यान कायम रहता है. समाज को हानि पहुंचाने वाली साईट्स कौन देख रहे है इस पर ध्यान रखा जा रहा है. जिससे मोबाईल आपका है फिर भी उस पर क्या न देखें इस पर प्रतिबंध  है. अमेरिका की नेशनल सेंटर ऑफ मिसिंग एंड एक्सपायटेड चिल्ड्रेन यह संस्था चाईल्ड पोर्नोग्राफी के विरोध में कार्य कर रही है. यह संस्था अमेरिका की फेडरल ब्यूरो ऑफ इनवेस्टीगेशन इस संस्था को जानकारी देती है.

    10 लाख का जुर्माना व 10 साल की सजा

    केंद्र सरकार ने चाईल्ड पोर्नोग्राफी के व्यवसायिक उपयोग वीडियो देखना, संग्रह रखना और आगे फारवर्ड करने पर 10 लाख रु. तक जुर्माना और 10 साल की सजा का प्रावधान किया है. इसी तरह यह अपराध बिना जमानत वाला है.

    व्यक्ति का दिया जाएगा आयपी एड्रेस

    केंद्रीय गृह मंत्रालय के राष्ट्रीय अपराध पंजीयन विभाग ने इस संस्था से भारत में ऐसे वीडियो मॅसेज वायरल करने वाले व्यक्ति की तांत्रिक जानकारी देने संबंधी अनुबंध किया है. इसके अनुसार यह संस्था चाईल्ड पोर्नोग्राफी फैलाने वाले की आयपी एड्रेस व तांत्रिक जानकारी पूर्ति करती है. उल्लेखनीय है कि गोंदिया जिले में अब तक इस प्रकार के मामले दर्ज नहीं हुए है.  इतना ही नहीं चाईल्ड पोर्नोग्राफी संदर्भ में सामाजिक संस्थाओं की कोई शिकायत भी जिले में नहीं है.

    इस संबंध में जिला पुलिस अधीक्षक विश्व पानसरे के अनुसार  सायबर पुलिस चाईल्ड पोर्नोग्राफी सोशल मीडिया पर वायरल करने वालों पर कार्रवाई कर रही है. किसी भी पीडित व्यक्ति ने इस तरह की घटना ध्यान में ला दी तो सायबर पुलिस उसे खोज कर कार्रवाई करती है. इस तरह के वीडियो कोई बना  रहे होंगे तो सायबर विभाग को उसकी जानकारी दें. उस पर तत्काल कार्रवाई करने में सायबर पुलिस को मदद होगी.