महिलाएं हो रही ठगी का शिकार

    गोंदिया. आभूषणों की सफाई के नाम पर सक्रिय गिरोह महिलाओं को निशाना बना रहे हैं. बंद घरों से चोरियां की जा रही हैं. बंद घरों का दिन में निरीक्षण के बाद रात के समय चोरियां की जा रही हैं. चोरी की घटनाओं पर रोकथाम के लिए घर छोड़ने से पूर्व घर की पहरेदारी के लिए किसी रिश्तेदार को छोड़कर जाना जरूरी है.

    चोरी करने वाली टोली के सदस्य दिन में शहर व गली में घूमते हैं. बंद घरों का निरीक्षण किया जाता है. घर में जाने और चोरी के बाद भागने के लिए मार्ग का अभ्यास किया जाता है. रात के समय तीन-चार लोगों द्वारा बंद घरों में जाकर चोरी की जाती है. जिले में पिछले दो-तीन महीने से आभूषण की सफाई करने वाली टोली सक्रिय है. यह टोली आभूषण सफाई के नाम पर महिलाओं की नजर चुराकर आभूषण पर हाथ साफ करती है. गोंदिया, तिरोड़ा व गोरेगांव में यह टोली घूम रही है.

    कोरोना संक्रमण की वजह से बेरोजगारी बढ़ी है. पैसों के लिए युवा पीढ़ी द्वारा गलत मार्ग का चयन कर लिया जाता है. चोरी कर अपना शौक पूरा करते है. कोरोना की वजह से आर्थिक समस्या निर्माण हुई है. इस वजह से चोरी, लूटपाट की घटनाओं में वृद्धि हुई  है. जानकारी के अनुसार वर्ष 2019 में 160, 2020 में 80, 2021 में 40 चोरी हुई है.

    वर्ष 2021 में हुई 160 चोरी की घटनाओं में सिर्फ 30 घटनाओं का पर्दाफाश हुआ है. 130 घटनाओं में पुलिस को सफलता नहीं मिली है. इसी प्रकार वर्ष 2020 में चोरी की 80 घटनाएं हुई. 29 घटनाओं का पर्दाफाश हो सका, जबकि 51 घटनाओं की जांच अभी शुरू है.

    जिले में वर्ष 2021 के 8 माह में 40 चोरी की घटनाएं हुई है. इनमें से कुछ चोरियों के आरोपियों को पुलिस ने पकड़ लिया है तो बहुत से मामलों में अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हो सकी है. स्थानीय अपराध शाखा पुलिस व संबंधित थानों द्वारा चोरों का सुराग लगाने का प्रयास किया जा रहा है. इसके बाद भी चोर पुलिस को चकमा देकर घटना को अंजाम दे रहे हैं. पिछले 2 वर्ष की तुलना में इस वर्ष चोरी का प्रमाण कम था लेकिन पिछले 2 माह में चोरी की घटनाओं में वृद्धि देखी जा रही है.