rana
Pic: Twitter

    नई दिल्ली/मुंबई. महाराष्ट्र (Maharashtra) में इन दिनों  हनुमान चालीसा (Hanumana Chalisa) और लाउडस्पीकर पर पड़ रही राजनीतिक गर्मी बढ़ती जा रही है। इसी क्रम मियन आज जहाँ अमरावती से सांसद और विधायक नवनीत राणा और उनके पति रवि राणा ने मातोश्री के बाहर हुनमान चालीसा पढ़ने का ऐलान किया है। वहीं इसके बाद नवनीत राणा (Navneet Rana) की बिल्डिंग के नीचे भारी संख्या में अनेकों शिवसैनिक आ डटे हैं। इस दौरान पुलिस और शिवसैनिकों के बीच धक्कामुक्की भी देखि गई है ।

    जी हाँ, आज शिवसैनिकों ने राणा के घर के बाहर लगे बैरियर तोड़े और घर में घुसने का प्रयास किया। शिवसैनिकों ने कहा कि, आज हम अमरावती का कचरा पूरी तरह से साफ करने आए हैं।वहीं दूसरी तरफ घर के बाहर हुए इस भयंकर हंगामे के बाद नवनीत राणा ने अब सोशल मीडिया में एक वीडियो पोस्ट किया है।

    इसमें उन्होंने कहा कि, “अगर आज ये बालासाहेब के शिवसैनिक होते तो हमें मातोश्री जाने की अनुमति मिल जाती। लेकिन यहाँ हमारे घर पर हमला हो रहा है, शिवसैनिकों ने हमसे गुंडागर्दी की है। वहीं पुलिस ने उन्हें रोकने का प्रयास नही किया है। कुछ हुआ तो इसके जिम्मेदार आज मुख्यमंत्री उद्धव  होंगे।” वहीं इस पर रवि राणा ने कहा, “वे हमें रोक नहीं सकते। हमें राम भक्त देख रहे हैं। चाहे कुछ भी हो जाए, हम आज मातोश्री जाएंगे ।”

    बता दें कि नवनीत राणा के ऐलान के बाद फिलहाल भारी संख्या में शिवसैनिक पिछले 2 दिनों से ‘मातोश्री’ के बाहर आ जुटे  हैं। इस बीच नाराज शिवसैनिको ने बीती रात यहां से गुजर रहे BJP नेता मोहित कंबोज की कार पर हमला भी किया था।  कंबोज ने एक वीडियो शेयर करते हुए बाद में कहा था कि, “मैं एक शादी में शामिल होने आया था और घर लौटते समय मेरा वाहन कलानगर इलाके में एक रोड सिग्नल पर रुक गया । अचानक, ही कुछ सैकड़ों लोगों की भीड़ ने आकर मेरे वाहन पर हमला किया और उसके शीशे तोड़ दिए और दरवाजे के हैंडल को भी क्षतिग्रस्त कर दिया है।”उन्होंने साथ ही यह भी बताया कहा कि उनकी कार में कोई भी घायल नहीं हुआ है। पुलिस में भी इस बाबत शिकायत कर दी गई है। 

    इधर इन सबके बीच बीते शुक्रवार देर शाम उद्धव ठाकरे ने मातोश्री के बाहर जमें सैकड़ों शिवसैनिकों का अभिवादन करते हुए कहा थाकि, अब वे लोग अपने-अपने घर जाएं। उन्होंने कहा था कि, “आप लोग सुबह से यहां जमे हुए हैं। अब आप लोग अपने-अपने घर जाएं। यहां आने की कोई भी हिम्मत नहीं करेगा।” इस प्रकार आज का दिन इस मुद्दे पर शायद निर्णायक साबित हो सकता है।