In Satara, Maharashtra, a pregnant woman forest guard was brutally beaten up by the former sarpanch, watch video

    सतारा: महाराष्ट्र (Maharashtra) के सतारा (Satara) से एक चौंकाने वाली घटना सामने आई है। इस घटना का वीडियो (Video) भी सोशल मीडिया (Social Media) पर तेज़ी से वायरल (Viral) हो रहा है। वीडियो में एक शख्स एक महिला को बड़ी ही बेरहमी से पीट रहा है। वीडियो में दिखाई दे रही महिला फॉरेस्ट रेंजर (Woman Forest Ranger) बताई जा रही है, महिला फॉरेस्ट रेंजर तीन माह की प्रेग्नेंट है। महिला (Woman) को बेरहमी से पीट रहा है शख्स इलाके का पूर्व सरपंच बताया जा रहा है। 

    बताया जा रहा है कि, सतारा तालुका में मौजूद सिंधु सनप और उनके पति सतारा तालुका में फॉरेस्ट रेंजर कमेटी के मेंबर के रूप में काम करते हैं। सतारा तालुका के पलसावड़े गांव की वन सीमा पर जाते समय गांव  के पूर्व सरपंच और उनकी पत्नी ने उन्हें लात और घूंसे मार बुरी तरह पीटा। बताया जा रहा है कि, फॉरेस्ट रेंजर तीन माह की गर्भवती बताई जा रही है। मामला सामने आने के बाद सोशल मीडिया पर लोगों में आक्रोश देखा जा रहा है। 

    सिंधु सनप ने सतारा तालुका पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराई है। एएनआई के मुताबिक, सतारा में एक व्यक्ति और उसकी पत्नी को एक वन मजदूर स्थानांतरण विवाद पर एक महिला गार्ड की कथित तौर पर पिटाई करने के बाद गिरफ्तार किया गया। वह व्यक्ति पूर्व सरपंच और स्थानीय वन समिति का सदस्य है। गार्ड तीन माह की गर्भवती है।

    एएनआई के मुताबिक, सिंधु सनप ने बताया, ‘जब से मैंने (ड्यूटी) ज्वाइन किया, वे (पलासवड़े गांव के पूर्व सरपंच) मुझे धमकी देते, पैसे मांगते थे लेकिन मैं उन्हें मना कर देती है। काम से लौटते समय (कल- 19 जनवरी), मेरे साथ मारपीट की और मेरे पति को चप्पलों से पीटा।

    इस मामले में अब महाराष्ट्र राज्य महिला आयोग ने भी संज्ञान लिया है। आयोग ने एसपी सतारा से विस्तृत रिपोर्ट लेकर आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए हैं।इस मामले में अब महाराष्ट्र राज्य महिला आयोग ने भी संज्ञान लिया है। आयोग ने एसपी सतारा से विस्तृत रिपोर्ट लेकर आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए हैं।

    एएनआई ने सतारा के एसपी अजय कुमार बंसल के हवाले से बताया कि, पुलिस इस बात की भी जांच कर रही है कि क्या भ्रूण को इस हमले में कोई नुकसान हुआ है। अगर ऐसा पाया जाता है तो संबंधित अनुभाग जोड़ा जाएगा। प्रथम दृष्टया कोई नुकसान नहीं हुआ है।

    पुलिस के मुताबिक, ‘‘आरोपी पूर्व सरपंच स्थानीय वन प्रबंधन समिति का सदस्य है। वह पीड़ित महिला वन रक्षक के संविदा वन कर्मियों को ‘बिना उसकी इजाजत’ के अपने साथ ले जाने को लेकर नाराज था।”

    महाराष्ट्र के पर्यावरण मंत्री आदित्य ठाकरे ने अपने ट्विटर हैंडल पर यह वीडियो साझा किया। उन्होंने लिखा, ‘‘आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है। उसके खिलाफ कठोर से कठोर कार्रवाई की जाएगी। ऐसी घटनाओं को कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।”