जिला अधिकारी कार्यालय में आमरण अनशन पर बैठे खेत मजदूर, जानिए क्या है मामला

    जलगांव : जिले के जामनेर तहसील (Jamner Tehsil) के शेंदुर्णी गांव में चल रहे अवैध धंधे (Illegal Business) को हमेशा के लिए बंद करने की मांग को लेकर शेंदुर्णी (Shendurni) के खेतिहर मजदूर अनिल पाटिल ने कल 24 जनवरी की दोपहर 12 बजे जिला अधिकारी कार्यालय (District Magistrate’s Office) के सामने आमरण अनशन (Fast Unto Death) शुरू कर दिया है। इस संबंध में जिला अधिकारी अमन मित्तल को मांगों का ज्ञापन दिया गया है। 

    ज्ञापन में कहा गया है कि शेंदुर्णी गांव में मंदिर, मस्जिद, जिला परिषद स्कूल, नया बस स्टैंड और भारत रत्न डॉ. बाबासाहेब अंबेडकर प्रतिमा क्षेत्र जैसे स्थानों पर अवैध सट्टेबाजी और जुए के अड्डे हैं। रोहिदास महाराज मंदिर से सटे गांव के साप्ताहिक बाजार में भी जुए का अड्डा चलाया जा रहा है। हमारे परिवार पर झूठे केस दर्ज करने की धमकी देकर पुलिस की मदद से हिंसा की जा रही है। मंदिरों, मस्जिदों और मराठी स्कूल के पास जुए के अड्डे चलने से महिलाओं को परेशानी होती है। महिलाओं के साथ अपमानजनक व्यवहार भी किया जाता है। 

    गांव में चल रहा जुए का कारोबार 

    पिछले 6 महीने से शेंदुर्णी गांव से तडीपार सागर डाघे, शरद आसवार, शुभम गुजर, विक्की डाघे, गोविंद बारी को पुलिस ने छह महीने के लिए तडीपार कर दिया था। गांव में सागर डाघे का जुए का कारोबार अब भी चल रहा है। प्रशासन इस पर ध्यान दे और गांव में चल रहे अवैध धंधों को बंद किया जाए और बदमाशों के खिलाफ कार्रवाई की जाए, ऐसी मांग अनिल पाटील कर रहे हैं। इस मांग को लेकर उन्होंने मंगलवार 24 जनवरी को जिला अधिकारी कार्यालय के सामने आमरण अनशन शुरू कर दिया है। अनिल पाटिल ने कहा है कि जब तक मांगें पूरी नहीं होंगी तब तक अनशन जारी रहेगा।