बार-बार बिजली गुल होने ने नागरिकों में भारी असंतोष, सरपंच और ग्राम पंचायत सदस्य ने दिया ज्ञापन

    धुलिया. गांव के विभिन्न हिस्सों में बार-बार बिजली आपूर्ति बाधित (Interruption of Power Supply) होने से नागरिकों में भारी नाराजगी व्याप्त है। सरपंच सोनीबाई भील और ग्राम पंचायत सदस्य वैशाली माली सहित ग्रामीणों ने एक ज्ञापन (Memorandum) देकर चेतावनी दी है कि क्षेत्र और गांव में समस्या का तत्काल समाधान किया जाए, अन्यथा बिजली वितरण कार्यालय (Power Distribution Office) पर ताला (Lock) लगा दिया जाएगा।  

    बता दें कि वार्ड नंबर दो की न्यू कॉलोनी और महादेव वाडी क्षेत्र में हर रात बिजली आपूर्ति बाधित रहती है। इस क्षेत्र में लगाई गई बिजली की लाइटें खतरनाक हैं और बच्चों की जान के लिए खतरा हैं। कई बार दिन के साथ-साथ आधी रात को भी बिजली चली जाती है।  जी.पी. अधिकारियों ने बिजली वितरण कंपनी के कार्यालय का भी दौरा किया और विभिन्न मुद्दों को उठाया। इस दौरान गौठान व कृषि पंपों को रुक-रुक कर बिजली आपूर्ति के मुद्दे पर चर्चा हुई। इस अवसर पर ग्रामपंचायत सरपंच सोनीबाई भिल, उपसरपंच प्रा. अंकिता पाटील, ग्रामपंचायत सदस्य अक्काबाई भिल, ग्रामसेवक प्रवीण ठाकरे, सामाजिक कार्यकर्ता अंजन पाटील, पूर्व पंचायत समिति सदस्य शरद माली, शशिकांत बोरसे, मनोहर पाटील आदि उपस्थित थे। 

    रात में सांप काटने का रहता है खतरा 

    ज्ञापन में कहा गया है कि वार्ड नंबर दो में अक्सर बिजली आपूर्ति बाधित रहती है। वर्तमान में यह गांव महामारी से त्रस्त है। रात में बार-बार बिजली गुल होने से दिहाड़ी मजदूर और बच्चों को परेशानी का सामना करना पड़ता है। अंधेरा होने से पुरुष और महिलाओं को रात में शौचालय जाने में दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। इसी के साथ उन्हें सांप के काटने का खतरा रहता है। ज्ञापन में कहा गया है कि इस समस्या को बिजली वितरण कंपनी 8 दिन के भीतर हल करे, अन्यथा कंपनी के कार्यालय में ताला लगा दिया जाएगा।

    ज्ञापन पर इन्होंने किया है हस्ताक्षर

    इस ज्ञापन पर ग्रामपंचायत सदस्य वैशाली माली, महेश बडगुजर, संदीप माली, मनोज शिंपी, श्याम बडगुजर, पूनम माली, संजय माली, राजेंद्र माली, सहादू माली, बापू माली, सुरेश माली, धर्मा माली, प्रकाश माली, शिवराम चौधरी, नानाभाऊ माली, रमेश माली, कलाबाई चौधरी, प्रतिभा माली, शिवाजी माली, भूषण माली, भागवत माली, चुडामन माली, शरद माली, सरलाबाई माली, हिराबाई माली, जीजाबाई माली, आशाबाई माली, प्रफुल्ल माली के हस्ताक्षर हैं। ग्रामीण महिलाओं ने घटना को लेकर शाखा अभियंता अंजलि हिंगमिरे से नाराजगी जताई है।