जलगांव में पथराव के डर से नहीं आए नवनियुक्त चालक, एसटी बस स्टैंड नहीं निकली बसें

    जलगांव: एसटी परिवहन निगम की हड़ताल (ST Strike) तोड़ने के प्रयास लगातार विफल हो रहे हैं। प्रयोगात्मक तौर पर सरकार ने प्रतीक्षा सूची के उम्मीदवारों को नियुक्त कर सोमवार को पुलिस बन्दोबस्त में बस सेवा (Bus Service) शुरू की थी। बसों पर पथराव के चलते नए ड्राइवर (Newly Appointed Drivers) ने घबरा कर एसटी का स्टीयरिंग व्हील छोड़ दिया। जिसके चलते बस स्टैंड से एक भी एसटी नहीं निकली। सरकार ने बस सेवा को सुचारु बनाने के लिए भर्ती प्रक्रिया में प्रतीक्षा सूची के अभ्यर्थियों को एक माह के लिए अस्थाई नियुक्तियां देकर सेवा शुरू की थी।

    हालांकि जलगांव बस स्टैंड (Jalgaon ST Bus Stand) से रवाना हुई धुलिया बस को अनशनकारियों ने एरंडोल में रोक कर जलगांव वापस भेज दिया। इसी तरह मामूराबाद में चोपड़ा से गुजर रही बस पर अज्ञात व्यक्ति ने पथराव करने से नवनियुक्त चालकों में भय व्याप्त है। इसी डर के चलते चालक ड्यूटी पर नहीं आए।

    एसटी निगम को राज्य सरकार में विलय किया जाए

    अपनी मांग को लेकर एसटी कर्मी पिछले कई दिनों से हड़ताल पर हैं। इसके चलते बस सेवा ठप पड़ी है, लेकिन बस सेवा को सुगम बनाने के लिए प्रतीक्षा सूची में शामिल अभ्यर्थियों को रविवार से सेवा शुरू करने का मौका  मिला था, लेकिन अगले दिन  पांच बसों पर अज्ञात हमलावरों ने पत्थराव किया था। जिससे घबराकर प्रतीक्षा सूची के वाहन चालक और कंडक्टर ड्यूटी पर नहीं आने के कारण एसटी की सेवा एक बार फिर से बाधित हो गई।