ST BUS
File Photo

    जलगांव:  परिवहन विभाग ने एसटी कर्मियों की हड़ताल (ST Strike)को कुचलने के इरादे से प्रतीक्षा सूची के प्रशिक्षुओं  को एसटी की स्टेरिंग और कंडक्टर को घंटी  सौंप दी है। खानदेश में  21  दिनों से एसटी के पहिए थमे हुए थे। सड़क पर पहली बार रविवार को जलगांव (Jalgaon) से धुलिया (Dhulia) एसटी बस को रवाना किया गया। इसके चलते नागरिकों ने राहत की सांस ली। वहीं इस दौरान एसटी कर्मियों ने बस स्टैंड में हंगामा करना शुरू कर दिया। पुलिस (Police)ने हस्तक्षेप कर बस स्टैंड को तनाव मुक्त किया।  इन नए वाहन चालकों की गुणवत्ता पर प्रश्न चिह्न लग रहा है। इन्हें बस सड़क पर चलाने का अनुभव नहीं है। इसके चलते भ्रम की स्थिति बनी हुई है। जलगांव संभागीय नियंत्रक भगवान जोगनार ने कहा कि प्रतीक्षा सूची से 38 उम्मीदवारों को बुलाया गया हैं। इनके जरिए अमलनेर, धुलिया और चोपड़ा रूटों पर 15 बसें निगम ने चलाने का फैसला किया है।

    गौरतलब है कि राज्य परिवहन निगम कर्मचारी पिछले एक पखवाड़े से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर हैं। एसटी महामंडल का विलय सरकारी कर्मियों में कराने की मांग पर विभिन्न एसटी कामगारों की यूनियनें अड़ी हुई हैं। हड़ताल में शामिल कर्मियों के पीछे नहीं हटने पर बस सेवा बंद पड़ी हुई है और यात्रियों को प्रतिदिन धक्के खाकर निजी वाहनों से यात्रा करने पर विवश होना पड़ रहा है। हड़ताल को तोड़ने के लिए सरकार ने नई भर्ती में प्रतीक्षा सूची में शामिल अभ्यर्थियों को एसटी की स्टेयरिंग रविवार को सौंप दी। इसका विरोध किया गया, लेकिन काफी हंगामे के बाद पहली बस धुलिया के लिए रवाना हुई।

    हड़ताल से एसटी को हो रहा भारी नुकसान

    हड़ताल से एसटी को काफी नुकसान पहुंचा हैं।  कोई समाधान नहीं निकलने के कारण कर्मचारियों ने हड़ताल वापस नहीं लेने का फैसला किया है। इसके चलते अभी भी आंदोलन जारी है। इस बीच यात्रियों के लिए राहत की खबर आई कि परिवहन विभाग पुलिस सुरक्षा में नए चालकों के माध्यम से सेवा शुरू कर रही है।

     बस स्टैंड परिसर में धरना दिया 

    एसटी कर्मचारियों ने चालक व वाहक को प्रतीक्षा सूची से तत्काल नियुक्त किए जाने का विरोध किया। महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के पदाधिकारियों ने इसका जमकर विरोध किया। वे बस जाने नहीं देंगे, ऐसी भूमिका पर अड़े हुए थे। केंद्रीय बस स्टैंड परिसर में धरना दिया गया। अपर पुलिस अधीक्षक चंद्रकांत गवली ने चर्चा की तो अंत में आंदोलन वापस ले लिया गया, लेकिन अनशन जारी रहेगा।  

    धुलिया-जलगांव में एसटी बसों पर पथराव

    JALGAON ST

    उधर, धुलिया बस डिपो से निकली चार बसों पर अज्ञात व्यक्ति ने पथराव किया । वहीं जलगांव में चोपड़ा तहसील में भी अज्ञात हमलावरों ने एसटी बस पर पथराव करने से ड्राइवर जख्मी हुआ है। यह वारदात शाम करीब चार बजे उस समय हुई जब एसटी निगम ने कुछ बसें शुरू करने के बाद मामूराबाद निकट रेणुकामाता मंदिर के पास चोपड़ा जा रही एक बस पर अज्ञात लोगों ने पथराव कर दिया। इसी धुलिया डिपो से निकलने वाली चार बसों पर भी  पथराव किया गया। इस घटना से राज्य सरकार के एसटी कर्मचारियों के प्रति उदासीन रवैये को लेकर आम जनता में भी आक्रोश है। घटना की जानकारी मिलते ही भगवान जोगनार, संभागीय नियंत्रक, एसटी और उनके सहयोगी मौके पर पहुंचे। पुलिस में अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया।