Uddhav Thackeray

    मुंबई. मुंबई (Mumbai) के साकीनाका (Sakinaka) इलाके में हुई बलात्कार की सनसनीखेज वारदात ने पुरे देश में हड़कंप मचा दिया है। इस घटना के बाद एक बार फिर महिलाओं की सुरक्षा को लेकर सवाल उठने लगे हैं। इसी बीच मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने मुंबई में सभी वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों की इमरजेंसी बैठक बुलाई। जिसमें उन्होंने इस केस का ट्रायल फास्ट ट्रैक कोर्ट में कराने का आदेश दिया है। साथ ही एक महीने के अंदर चार्जशीट दाखिल करने के निर्देश दिए हैं।

    बैठक में मुख्यमंत्री ठाकरे ने कहा, मुंबई शहर को सुरक्षित शहर के रूप में देखा जाता है ये छवि खराब न हो इसलिए पुलिस को अधिक सतर्क रहना होगा। साथ ही मुख्यमंत्री ने पुलिस को महिलाओं की सुरक्षा के उपाय करने और पेट्रोलिंग बढ़ाने के निर्देश दिए हैं। इसके अलावा मुख्यमंत्री ने इस केस में रविवार से विशेष सरकारी अभियोजकों की नियुक्ति कर कोर्ट केस तैयार करने के स्पष्ट निर्देश दिए हैं।

    सचिवालय के अनुसार, साकीनाका में पुलिस कंट्रोल रूम को घटना की सूचना मिलते ही पुलिस महज दस मिनट में मौके पर पहुंची और घायल महिला को राजावाड़ी अस्पताल पहुंचाया।

    गौरतलब है कि, 9 सितंबर को पुलिस को कंट्रोल रूम पर सुबह 3.30 बजे कॉल आया था। जिसमें साकीनाका के खैरानी रोड पर खून से लथपथ एक महिला (32) के बेहोश होने की जानकारी दी गई थी। जिसके बाद पुलिस ने उसे रजवाड़ी अस्पताल भर्ती किया गया।

    जांच में पता चला कि महिला से दुष्कर्म करने के बाद आरोपी ने भागने से पहले उसके गुप्तांग में रॉड डाल दी थी, जिससे वह बुरी तरह से घायल हो गई थी। जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई।

    इस मामले में गिरफ्तार 45 वर्षीय आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार कर शनिवार को कोर्ट में पेश किया। जहां कोर्ट ने उसे 21 सितंबर तक पुलिस हिरासत में भेज दिया है।