Mumbai-lockdown

    मुंबई: भारत में धीमी पड़ी कोरोना (Coronavirus Outbreaks) की रफ्तार अब तेज हो गई है। साथ ही केरल (Kerala) में हालात सबसे अधिक खराब हैं। महाराष्ट्र (Maharashtra Corona Updates) में भी कोविड (COVID-19) के मामलों में अब बढ़ोतरी होने से चिंता बढ़ गई है। ऐसे में कोरोना की तीसरी लहर की संभावना के चलते सूबे में कई तरह की पाबंदियां लागू की जा सकती है। एक्सपर्ट्स का मानना है कि गणेश चतुर्थी जैसे त्योहारों के बाद कोरोना के मामलों में बढ़ा उछाल महाराष्ट्र में देखने को मिल सकता है। यही कारण है कि उद्धव सरकार सख्ती का ऐलान कर दे। 

    वहीं कई रिपोर्ट्स में कहा जा रहा है कि महाराष्ट्र सरकार कोरोना को लेकर किसी तरह का कोई जोखिम नहीं उठाना चाहती है। इसलिए वह सूबे में कड़े प्रतिबंध (Lockdown) लागू कर सकती है। खबरें यह भी है कि त्योहार के मद्देनजर नाइट कर्फ्यू या फिर कार्यक्रमों में शामिल होने को लेकर गाइडलाइंस जारी कर सकती है।

    ज्ञात हो कि महाराष्ट्र सरकार में मंत्री और कांग्रेस विधायक असलम शेख का कहना है कि अगर कोरोना के मामलों में ऐसे ही बढ़ोतरी जारी रहती है तो सितंबर के अंत तक प्रतिबंधों को राज्य में लगाया जा सकता है। साथ कोविड-19 टास्क फोर्स का भी यही कहना है कि सितंबर के अंत तक कोविड के मामलों में इजाफा हो सकता है। वैसे महाराष्ट्र में शुरू से ही कोविड का तांडव देखने को मिला है। यही कारण है कि सरकार किसी तरह का जोखिम नहीं उठाना चाहती है। 

    महाराष्ट्र में अगर तीसरी लहर आती है तो कोरोना के 60 लाख मामले सामने आ सकते हैं। साथ ही सबसे अधिक असर मुंबई और पुणे में देखने को मिल सकता है। सूबे के स्वास्थ मंत्री राजेश टोपे ने पहले ही बताया था कि पहली लहर में 20 लाख, दूसरी लहर में 40 लाख से अधिक लोग इसकी चपेट में आए थे। ऐसे में तीसरी लहर में 60 लाख लोग महाराष्ट्र में आ सकते हैं।  

    गौर हो कि महाराष्ट्र में इससे पहले कोरोना के 4,342 नए केस सामने आए थे। साथ ही 55 लोगों की मौत हुई थी। जबकि 4,755 लोग कोविड का इलाज कराकर ठीक हुए हैं। राज्य में पुणे में सबसे अधिक 17 मौत हुई है। मुंबई में कोविड के 440 नए केस दर्ज हुए हैं। अगर बुधवार की बात करें तो महाराष्ट्र में 4,456 कोविड के मामले सामने आए थे। इसी दिन कोविड की चपेट में आने से 183 लोगों की मौत हुई है।