eknath-udhhav
Pic: Twitter

    नई दिल्ली/मुंबई. जहां एक तरफ महाराष्ट्र (Maharashtra) में हो रही सत्ता और सम्मान की लड़ाई अब सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के दरवाजे  तक पहुंच चुकी है। वहीं आज एकनाथ शिंदे (Eknath Shinde) कैंप की लंबित दो याचिकाओं पर आज सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई है। इस बाबत आज सुप्रीम कोर्ट में एकनाथ शिंदे का पक्ष हरीश साल्वे रखेंगे जबकि शिवसेना (Shiv Sena) के लिए सुप्रीम कोर्ट में अभिषेक मनु सिंघवी अपनी दलील रखेंगे। वहीं महाराष्ट्र के डिप्टी स्पीकर के लिए कपिल सिब्बल आज पेश होने वाले हैं।

     अब तक के समीकरण

    लेकिन महाराष्ट्र में हो रही इस सियासी महा-संग्राम के बीच शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) अब अकेले पड़ते दिख रहे हैं। जी हाँ, अब विधायक हों या मंत्री, सभी बागी शिंदे गुट का के खेमें में जा रहे हैं। वहीँ अब उद्धव के खेमे में शिवसेना के 3 मंत्री आदित्य ठाकरे, अनिल परब और सुभाष देसाई ही बचे हैं। इनमे से देसाई और परब विधान परिषद के सदस्य हैं, जबकि एक अन्य कैबिनेट मंत्री शंकरराव गडख क्रांतिकारी शेतकारी पक्ष पार्टी से ताल्लुक रखते हैं।

    8 और मंत्री एकनाथ शिंदे कि तरफ 

    वहीं बाकी 8 मंत्री एकनाथ शिंदे के पाले में चले गए हैं। ये मंत्री हैं- दादा भुसे, गुलाबराव पाटिल, संदीपन भुमरे, उदय सामंत, राज्य मंत्री शंभूराज देसाई, अब्दुल सत्तार, राजेंद्र पाटिल येद्रावकर, बच्चू कडू (प्रहार जनशक्ति) हैं। पता हो कि 15 बागी विधायकों ने सदस्यस्ता रद्द करने को लेकर दिए डिप्टी स्पीकर के नोटिस को अब सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी गयी है। जिस पर आज सुनवाई होगी।