Mumbai Local Trains Updates : commuter figures crosses 60 lakhs mark, only 25 percent less than pre-covid time
File

    मुंबई: कोरोना (Corona) की दूसरी लहर में देश के सबसे ज़्यादा प्रभावित शहरों में से एक मुंबई (Mumbai) में अनलॉक (Mumbai Unlock) के बाद से शहर में पाबंदियों में ढील दी गई है। इसके साथ ही मुंबई में बिज़नेस, गार्डन और ऑफिस फिर से खुल गए हैं। वहीं मुंबई की लाइफलाइन कही जानेवाली लोकल ट्रेन (Mumbai Local Train) एक बार फिर से शुरू हो गई हैं। इससे लोकल ट्रेनों में रोज़ाना सफर करनेवाले लाखों लोगों को राहत मिली है लेकिन इसके साथ एक बार फिर से लोकल ट्रेनों में भीड़ बढ़ रही है। टाइम्स ऑफ़ इंडिया की एक रिपोर्ट के अनुसार, मध्य और पश्चिम रेलवे की सवारियों की संख्या सोमवार को 60 लाख यात्रियों की नई ऊंचाई को पार कर गई। यह पूर्व-कोविड समय के 80 लाख सामूहिक पैसेंजरों से सिर्फ 25 प्रतिशत ही कम है।

    रिपोर्ट के मुताबिक, मंगलवार को जारी आंकड़ों से पता चला है कि, सीआर पर यात्रियों की संख्या सोमवार को 32.5 लाख के नए उच्च स्तर को छू गई, जो कि पूर्व-कोविड समय (45 लाख) से 27% कम है। वहीं पश्चिम रेलवे की राइडरशिप सोमवार को 27.6 लाख थी, जो पूर्व-कोविड समय (35 लाख) से 21% कम है।

    इस बीच, जानकार मान रहे हैं कि, कॉलेजों के शुरू होने से सबर्बन ट्रेनों में और भी भीड़ बढ़ेगी। मुंबई में कोरोना पाबंदियों में अब ढील दी जा रही है। इसके बाद से शहर में कोरोना की पहली और दूसरी लहर के चलते बंद हुए बिज़नेस और ओफिसिस एक बार फिर से खोले जा चुके हैं। ऐसे में अब वर्क फ्रॉम होम ज़्यादातर जगह बंद हो चूका है जिसके बाद लोग अलग-अलग ट्रांसपोर्ट के ज़रिए कम पर जा रहे हैं। वहीं मुंबई की लाइफ लाइन कही जानेवाली मुंबई लोकल ट्रेन में भी अब भीड़ बढ़ने लगी है।  

    कोरोना के चलते आम लोगों के लिए मुंबई लोकल ट्रेन बंद गई थीं। इन्हे 15 अगस्त को पूरी तरह से टीका लगाए गए यात्रियों के लिए सेवाएं फिर से शुरू हुई थीं। इसके तहत यात्रियों को अपना टीकाकरण विवरण दिखाते हुए पंजीकरण करना होगा और ऑनलाइन या ऑफलाइन प्रक्रिया के माध्यम से एक सार्वभौमिक पास प्राप्त करना होगा और फिर स्थानीय ट्रेनों से यात्रा करने के लिए मासिक रेलवे पास खरीदना होगा जिसके बाद वह मुंबई लोकल ट्रेन में  सफर कर सकते हैं ।