महाराष्ट्र में 1.79 लाख किशोरों ने लिया सुरक्षा का टीका

    मुंबई: मुंबई (Mumbai) सहित महाराष्ट्र (Maharashtra) में सोमवार को 15 से 18 उम्र के किशोरों को सुरक्षित करने की मुहिम का आगाज हो गया है। सरकारी और बीएमसी टीकाकरण केंद्रों (BMC Vaccination Centers) पर अच्छी संख्या में किशोरों की भिड़ उमड़ी। कुछ किशोरों में सुई का डर दिखा, लेकिन वैक्सीन (Vaccine) पर उन्हें पूरा भरोसा होने की बात कही। स्वास्थ्य विभाग से मिली जानकारी के मुंबई सहित राज्य में पहले दिन लगभग 1 लाख 79 हजार 52 किशोरों ने खुशी-खुशी कोरोना (Corona) से सुरक्षा की वैक्सीन ली, इसमें 5,804 किशोरों का टीकाकरण (Vaccination) मुंबई में किया गया है।

    मुंबई में किशोरों के टीकाकरण के महानगरपालिका ने कुल 9 केंद्र में व्यवस्था की। बीकेसी जंबो कोविड टीकाकरण केंद्र से टीकाकरण की शुरुआत की गई। राज्य के पर्यावरण मंत्री और मुंबई उपनगर के पालक आदित्य ठाकरे के हाथों मुहिम का शुभारंभ हुआ। इस अवसर पर महापौर किशोरी पेडणेकर सहित अन्य स्थानीय नेता मौजूद थे। 

     किसी भी बच्चे में कोई मेजर साइड इफेक्ट नहीं 

    इस शुभारंभ के साथ कालीना शास्त्री नगर पब्लिक स्कूल के 10 वीं के छात्रा तनुजा माकड़वाला और राजन हेमंत बारी को सर्वप्रथम वैक्सीनेट किया गया।  दोनों विद्यार्थियों ने बताया कि टीका लेने में किसी प्रकार की कोई परेशानी नहीं हुई है। उन्होंने कहा कि वे अपने पड़ोस में टीकाकरण के लिए जनजागृती करेंगे। दहिसर जंबो कोविड टीकाकरण केंद्र की इंचार्ज डॉ. दीपा श्रीयान ने बताया कि टीकाकरण की शुरुआत अच्छी रही कुल 519 किशोरों का टीकाकरण किया गया। किसी भी बच्चे में कोई मेजर साइड इफेक्ट नहीं देखने को मिला। 2 बच्चे घबराहट के चलते बेहोश हो गए थे, लेकिन थोड़ी समय के बाद वो ठीक हो गए। वैक्सीन लेने के बाद बच्चों को क्या करना है उसके बारे में भी गाइड किया गया। अधिकतर बच्चों का ऑन द स्पॉट रजिस्ट्रेशन किया गया। कोविन पोर्टल भी अच्छे से काम कर रहा था। मंत्री आदित्य ठाकरे ने अभिभावकों से अपील की है कि वे अपने बच्चों को वैक्सीन की दोनो डोज समय पर दिलवाए।

    अभिभावकों ने बढ़ाया हौसला

    बीकेसी सहित अन्य टीकाकरण केंद्रों पर किशोरों के साथ उनके अभिभावक भी दिखे। अभिभावकों ने बच्चों का हौसला बढ़ाते और उनके डर को दूर करते नजर आए। स्पेशल स्कूल में पढ़ने वाले महादेवन कन्नन भी अपने पिता के साथ वैक्सीन लेने बीकेसी पहुंच। उनके पिता ने बताया कि वे अपने बेटे के साथ उसका हौसला बढ़ाने के लिए आए हैं।

    किशोरों में सुई को लेकर डर है, हम उन्हे समझते हैं उसके बाद उनका टीकाकरण कर रहे हैं। सुई लगने के बाद उन्हें पता भी नहीं चलता कि उनका टीकाकरण हो गया है। बच्चों में टीकाकरण को लेकर उत्साह देखने को मिला।

    -मयूरी कांबले, वैक्सीनेटर, दहिसर जंबो टीकाकरण केंद्र

     कोविड से बचना है तो वैक्सीन लेना पड़ेगा

    दहिसर स्थित मनपा स्कूल की छात्रा रुणा यादव (15) ने बताया कि मुझे इंजेक्शन से डर लगता है, लेकिन कोविड से बचना है तो वैक्सीन लेना पड़ेगा। वैक्सीन पर मुझे पूरा भरोसा है। मेरे अभिभावकों ने मुझे वैक्सीन लेने के लिए कहा। 

    मुंबई में 15 से 18 उम्र के 9 लाख किशोर हैं। हमने एक महीने में सभी को पहली डोज देने का टार्गेट तय किया है। अब इसके लिए हमें अभिभावकों का साथ चाहिए। वे बेझिझक हो कर बच्चों को टीकाकरण के लिए भेजे।

    -सुरेश काकानी, अतिरिक्त महानगरपालिका आयुक्त