Mumbai Police arrested a vicious thief, has done 215 thefts so far including the house of underworld don Chhota Rajan's sister
प्रतीकात्मक तस्वीर

    मुंबई. अंडरवर्ल्ड के आतंकी मॉड्यूल के पर्दाफाश के बाद से हरकत में आए महाराष्ट्र आतंकवाद निरोधक दस्ते (ATS) ने एक और संदिग्ध आतंकी रिजवान इब्राहिम मोमिन (40) को ठाणे (Thane) के मुंब्रा (Mumbra) से गिरफ्तार (Arrested) किया है। वह जोगेश्वरी निवासी संदिग्ध आतंकी जाकिर हुसैन शेख के संपर्क में था। दोनों की गिरफ्तारी को काफी अहम माना जा रहा है। जाकिर दिल्ली पुलिस (Delhi Police) की स्पेशल सेल (Special Cell) की गिरफ्त में आए धारावी (Dharavi) के आतंकी जान मोहम्मद शेख के संपर्क में था।

    एटीएस ने सोमवार को जाकिर और रिजवान को विशेष अदालत में पेश किया गया। एटीएस ने उनकी रिमांड की मांग नहीं की। अदालत ने उन्हें 4 अक्टूबर तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया है। एटीएस अधिकारियों के मुताबिक, उन्होंने जाकिर और रिजवान की रिमांड इसलिए नहीं मांगी, क्योंकि उनके खिलाफ सबूत इकट्ठा किए जा रहे हैं। जैसे ही कोई नया सबूत हाथ लगेगा, उन्हें अदालत से दोबारा एटीएस की रिमांड मांगी जाएगी।  

    जाकिर का भाई छोटा शकील का करीबी

    एटीएस के एक अधिकारी ने बताया कि जान मोहम्मद शेख के निशानदेही पर शनिवार को जोगेश्वरी से जाकिर हुसैन शेख को गिरफ्तार किया गया था। उससे पूछताछ में मुंब्रा में रहने वाले रिजवान इब्राहिम मोमिन का नाम सामने आया। एटीएस की टीम ने रविवार को ट्रैप लगाकर रिजवान को गिरफ्तार किया। जाकिर का भाई डी गैंग का गैंगस्टर और अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा शकील का करीबी है। वह इस समय पाकिस्तान में हैं। जाकिर विदेशी हैंडलर अंथोनी उर्फ अनवर उर्फ अनस से कोडवर्ड में संपर्क में था। एटीएस अधिकारियों को अनस के अनीस इब्राहिम होने का अंदेशा है। जाकिर एंथोनी उर्फ अनस के सतत संपर्क में था।  

    मोबाइल तोड़कर सबूत किया नष्ट

    महाराष्ट्र एटीएस की एक टीम दिल्ली में डेरा डाली हुई है और धारावी के जान मोहम्मद से गहन पूछताछ कर रही है। उससे मिले इनपुट के आधार पर ही जाकिर एवं रिजवान की गिरफ्तारी हुई हैं। 13 सितंबर को राजस्थान के कोटा में गोल्डन एक्सप्रेस में जान मोहम्मद की गिरफ्तारी की सूचना मिलते ही जाकिर ने अपनी मोबाइल रिजवान को दे दिया था। उसने उसे तोड़ कर नाले में फेंक दिया था। एटीएस ने उसकी तीन टुकड़ों में टूटी हुई मोबाइल बरामद की है। उसे फॉरेंसिक जांच के लिए भेजा गया है।

    विस्फोटकों की डिलीवरी लेने का था निर्देश

    जान मोहम्मद ने जब जाकिर के नाम का खुलासा किया, तो एटीएस अधिकारियों के होश ही उड़ गए। एटीएस को मुंबई मोड्यूल में जान मोहम्मद, जाकिर एवं रिजवान के अलावा कई और आतंकियों के शामिल होने का अंदेशा है। संदिग्ध आतंकी जाकिर ने ही जान मोहम्मद को विस्फोटकों की डिलीवरी लेने के लिए कहा था। जाकिर और रिजवान की गिरफ्तारी काफी अहम है, क्योंकि इनके पास से आगे के लिंक मिल सकते हैं।