बेस्ट ने पेश किया घाटे का बजट, 2,110 करोड़ का घाटा

    मुंबई. बेस्ट (BEST) उपक्रम ने वर्ष 2022-23 के लिए 2,110 करोड़ 47 लाख रुपए घाटे का बजट (‍Budget) पेश किया है। बेस्ट महाप्रबंधक लोकेश चंद्रा (Lokesh Chandra) ने बेस्ट समिति अध्यक्ष आशीष चेंबूरकर (Ashish Chemburkar) को बजट प्रस्तुत किया।  बेस्ट परिवहन विभाग पहले से ही घाटे में चल रहा था, लेकिन बेस्ट को उबारने वाला बिजली विभाग पहली बार 126 करोड़ 1 लाख रुपए के घाटे में चला गया है। बेस्ट को वर्ष 2021-22 में भी 1,818 करोड़ रुपए का घाटा हुआ था। एक वर्ष बाद बेस्ट का घाटा घाटा 418.48 करोड़ रुपए बढ़ गया है।

    बेस्ट के अनुसार, इस साल बेस्ट का कुल अनुमानित राजस्व 4,997.4 करोड़ रुपए और इसका खर्च 7,233.52 करोड़ रुपए रहने का अनुमान है। पिछले कुछ वर्षों से बेस्ट लगातार घाटे में चल रहा है। आय से अधिक खर्च होने के कारण बेस्ट को 2,236.48 करोड़ रुपए घाटे में दिखाया गया है। बजट में खर्च 3,562.14 करोड़ रुपए दिखाया गया है। इसमें परिवहन विभाग का घाटा 2,110 करोड़ 47 लाख रुपए दिखाया गया है।  पिछले वर्ष मार्च से मुंबई में कोरोना का संकट चल रहा है। जिस कारण  सरकार ने कुछ प्रतिबंध लगाए थे। लॉकडाउन के दौराना कई कंपनियां बंद हो गईं। करोड़ों लोगों की रोजगार छिन गया, नौकरियां चली गईं। अन्य कंपनियों की तरह बेस्ट को इसका सबसे बड़ा वित्तीय झटका लगा है।

    बिजली विभाग को भी नुकसान

    ईंधन की कीमतों में दिन-प्रतिदिन वृद्धि हो रही है। महंगाई दर भी बढ़ रही है। बेस्ट उपक्रम के लचर नियोजन योजना को देखते हुए करोड़ों रुपये के वित्तीय गड्ढे में चल रहा है। बेस्ट बिजली विभाग का राजस्व 3,545.37 करोड़ रुपए और कुल खर्च 3,671.38 करोड़ रुपए दिखाया गया है। इससे परिवहन विभाग की तरह बिजली विभाग को भी 126 करोड़ 1 लाख रुपये का नुकसान हुआ है।

    बेडे में 2100 ई बस

    बेस्ट आगामी वर्षो में पूर्ण रुप से इलेक्ट्रिक बसों को संचालित करने वाली है। इससे वायु और ध्वनि प्रदूषण को कम किया जाएगा। बेस्ट बेडे में 2100 ई बसें शामिल की जाएंगी। 1400 एक मंजिली एसी बस, 400 मिडी एसी बस,100 मीनी एसी बस, 200 ई डबल डेकर बस चालक सहित लेने की योजना है। 2023 तक बेस्ट की 50 प्रतिशत बसें इलेक्ट्रिक हो जाएंगी, जबकि 2027 तक 100 प्रतिशत इलेक्ट्रिक करने का लक्ष्य है।

    बेस्ट लेडीज स्पेशल

    अगले वित्तीय वर्ष में बेस्ट उपक्रम महिलाओं के लिए विशेष बस सेवाएं शुरू करने के अलावा आपात स्थिति में मदद के लिए एक विशेष मोबाइल एप्लिकेशन विकसित किया जाएगा। इसके लिए बेस्ट के 2022-23 के बजट में विशेष प्रावधान किया गया है। विभिन्न कंपनियों, कॉल सेंटर और स्कूलों की मांग के अनुसार बेस्ट की बसें प्रदान की जाएंगी। 

    राजस्व बढ़ाने के लिए बेस्ट प्रशासन नए विकल्प तलाश रहा है। बेस्ट के मोबाइल एप में एक विशेष बटन होगा। यह आपात स्थिति में महिला यात्रियों की मदद करेगा। महाप्रबंधक ने कहा कि बसों में सीसीटीवी कैमरे लगाए जा रहे हैं और सुरक्षा के लिए महत्वपूर्ण निर्णय लिए जा रहे हैं। महिला स्पेशल बसों पर ज्यादा ध्यान दिया जाएगा।

    -लोकेश चंद्रा, महाप्रबंधक, बेस्ट उपक्रम