File Photo
File Photo

    मुंबई. दादरा और नागर हवेली (Dadra and Nagar Haveli) से निर्दलीय सांसद मोहन डेलकर (Independent MP Mohan Delkar) की आत्महत्या मामले (Suicide Case) में बीजेपी नेताओं (BJP Leader) की भूमिका की जांच होगी। यह घोषणा महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख (Anil Deshmukh) ने की है। सांसद की आत्महत्या मामले को लेकर प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता सचिन सावंत (Congress spokesperson Sachin Sawant) ने गृहमंत्री के साथ वर्चुअल मीटिंग की। इस मीटिंग में सावंत ने आरोप लगाया कि सांसद डेलकर ने बीजेपी नेताओं से त्रस्त होकर आत्महत्या की है। 

    उन्होंने कहा कि डेलकर लगातार तंग किए जाने की वजह से इतने असहाय और विवश हो गए थे कि उन्होंने अपना जीवन समाप्त करने का फैसला कर लिया। पिछले डेढ़ साल से उन्होंने खुद वीडियो बनाने के अलावा संसद में अपने भाषण के माध्यम से उन पर बनाए जा रहे दबाव और उत्पीड़न की कहानी सुनाई थी। सावंत ने कहा है कि डेलकर ने अपनी 16 पेज के सुसाइड नोट में अपनी मौत के लिए गुजरात में बीजेपी के पूर्व मंत्री और दादरा नगर हवेली के वर्तमान प्रशासक प्रफुल्ल पटेल समेत कई लोगों का जिम्मेदार ठहराया है।  पटेल बीजेपी के बड़े नेताओं में से एक हैं और उन्हें राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का करीबी माना जाता है। 

    गृहमंत्री देशमुख के साथ वर्चुअल मीटिंग

    सावंत ने गृहमंत्री देशमुख से इस पूरे मामले की जांच कर डेलकर के परिवार को न्याय देने की मांग की है। गृहमंत्री देशमुख ने कहा है कि इस मामले बीजेपी नेताओं की भूमिका की भी जांच की जाएगी। देशमुख के साथ हुई मीटिंग में सावंत के साथ कांग्रेस प्रवक्ता राजू वाघमारे व सोशल मीडिया विभाग के विनय खामकर उपस्थित थे।