Nana Patole

    मुंबई. कोरोना (Corona) की वजह से महाराष्ट्र (Maharashtra) विकट स्थिति का सामना रही है, लेकिन ऐसे मुश्किल समय में राज्य सरकार का सहयोग करने की जगह केंद्र की मोदी सरकार (Modi Government) डबल गेम खेल रही है। यह आरोप प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष नाना पटोले (Pradesh Congress President Nana Patole) ने लगाया है। उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र में मेडिकल ऑक्सीजन और रेमडेसिवीर दवा की भारी कमी है, पटोले ने कहा कि राज्य सरकार ने रेमेडिसवीर की खरीद के लिए एक टेंडर जारी किया था, जिसके बाद दो कंपनियां ने महाराष्ट्र को प्रतिदिन 50,000 रेमेडिसवीर इंजेक्शन की आपूर्ति कर रही थीं, लेकिन अब इन कंपनियों ने आश्चर्यजनक रूप से अपनी स्थिति बदल दी और कहा है कि 31 मई से वे महाराष्ट्र को प्रति दिन केवल 500 इंजेक्शनों की आपूर्ति करेंगे। 

    उन्होंने सवाल उठाया है कि क्या केंद्र सरकार के दबाव के कारण इन कंपनियों ने रेमेडिसवीर की आपूर्ति में कटौती कर दी है। क्या इस तरह के दबाव बना कर केंद्र सरकार, महाराष्ट्र के हालात को और बिगाड़ना चाहती है। नाना पटोले ने एक प्रेस कांफ्रेंस कर बीजेपी पर निशाना साधा। इस मौके पर प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता सचिन सावंत, अतुल लोंढे, गोपाल तिवारी, प्रमोद मोरे, संजय लाखे पाटिल, देवानंद पवार और राजाराम देशमुख समेत कई नेता मौजूद थे।

    सभी पात्र लोगों में मिले वैक्सीन

    नाना पटोले ने कहा कि केंद्र सरकार ने भले ही महाराष्ट्र के लोगों को भगवान भरोसे छोड़ दिया है, लेकिन महाराष्ट्र सरकार को कर्ज लेकर भी राज्य के सभी पात्र लोगों को टीका लगाना चाहिए।

    मनमोहन सिंह के सुझाव पर हो अमल

    पटोले ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह ने कोरोना के खिलाफ लड़ाई के संबंध में जो सुझाव दिए हैं, उस पर तुरंत अमल होना चाहिए, उन्होंने कहा कि इस बारे में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन को कांग्रेस शासित राज्यों पर तंज कसने की जगह बीजेपी शासित राज्यों गुजरात और उत्तर प्रदेश में स्थिति पर ध्यान देना चाहिए। पटोले ने कहा कि गुजरात की स्थिति इतनी भयावह है कि उच्च न्यायालय ने हस्तक्षेप कर वहां की राज्य सरकार को काफी लताड़ा है।

    हम बदनाम करने की राजनीति नहीं करते

    नाना पटोले ने कहा कि बीजेपी के कुछ नेताओं को फेकू, कुछ को तड़ीपार तो किसी को तरबूजा नाम दिया गया है, एक नेता को चंपा भी कहा जाता है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस किसी को बदनाम नहीं करती है। यह महाराष्ट्र की संस्कृति नहीं है। पटोले ने कहा कि हमें कोई फर्क नहीं पड़ता कि हमारे व राहुल गांधी के बारे में बीजेपी नेता क्या कहते हैं। हम विरोध के बावजूद जनहित के मुद्दे उठाते रहेंगे। पटोले ने यह बयान नेता विपक्ष देवेन्द्र फडणवीस के उस बयान के संदर्भ में दिया है, जिसमें उन्होंने कहा था कि राहुल गांधी और पटोले के बयानों का जवाब देना वे उचित नहीं समझते हैं।