Fraud
Representational Pic

    मुंबई: शिवाजी नगर पुलिस (Shivaji Nagar Police) ने गोवंडी (Govandi) में आजमी क्लिनिक चलाने वाले डॉक्टर निसार शेख सहित तीन लोगों के खिलाफ धोखाधड़ी (Fraud) का मामला दर्ज (Case Registered) किया है। हालांकि पुलिस ने चीटिंग की वारदात के सात साल बाद एफआईआर (FIR) दर्ज की है, लेकिन अब पीड़िता को इंसाफ मिलने की उम्मीद है। 

    पुलिस के मुताबिक, फरार तीनों आरोपियों ने शिक्षण संस्था चलाने वाली एक जरूरतमंद महिला को म्हाडा में घर दिलाने के नाम पर करीब 20 लाख रुपए की धोखाधड़ी की थी, फ़िलहाल पुलिस सभी फरार आरोपियों की तलाश कर रही है। 

    2014 में हुई थी मुलाकात

    शिवाजी नगर पुलिस स्टेशन के पुलिस उप निरीक्षक दत्ताराय बंसोड़े ने बताया की शिकायतकर्ता शीला देवी पटेल की लिखित शिकायत के अनुसार, गोवंडी के शिवाजी नगर इलाके में आजमी क्लिनिक चलाने वाले डॉक्टर निसार शेख से पीड़िता की मुलाकात वर्ष 2014 में हुई थी। महिला को घर की जरुरत थी और निसार ने उसे मानखुर्द के पीएमजीपी कॉलोनी में म्हाडा का घर 12 लाख रूपए में देने का वादा किया और महिला से पैसे लेने के बाद उसे धीरे-धीरे कर करीब 20 लाख रूपए लिया था और इसके बदले में निसार ने अलॉटमेंट, ताबा पावती,पेमेंट रिसिप्ट और अन्य डॉक्यूमेंट दिया था। इसमें असलम शेख और उस्मान गनी नाम के व्यक्ति भी शामिल है। 

    पुलिस कर रही तीन लोगों की तलाश

    जब तीन साल चक्कर काटने पर भी घर नहीं मिला तो सब डॉक्यूमेंट लेकर खुद म्हाडा कार्यालय गई और वहां उसे उसे बताया गया की यह सब दस्तावेज फर्जी हैं। इसके बाद से महिला इंसाफ के लिए पुलिस स्टेशन के चक्कर लगा रही थी और वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक किशोर गायके के मार्गदर्शन में आईपीसी की धारा 420,406,465,468,471 और 34 के तहत डॉक्टर निसार शेख, असलम शेख और उस्मान गनी के खिलाफ मामला दर्ज कर पुलिस इन तीनों की तलाश कर रही है और इस बात की भी जांच कर रही है की इसने और कितने लोगों के साथ ठगी की है।